संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

पाकिस्तान से ‘ऐतिहासिक पराजय’ के लिए ‘मु० शमी’ ही दोषी क्यों?

★ समीक्षक– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय


‘टी-20′ विश्व कप क्रिकेट-प्रतियोगिता’ में भारत की पाकिस्तान से पराजय के लिए तीव्र गेंदबाज़ मु० शमी को मज़हब के आधार पर उत्तरदायी ठहराना, दूषित मानसिकता का परिचायक है। सच तो यह है कि भारत की अति लज्जाजनक पराजय के लिए ‘कप्तान से लेकर शेष खिलाड़ी’ उत्तरदायी हैं। जो लोग इन दिनों मु० शमी को ‘बुरा’ कह रहे हैं, उन्हें नहीं मालूम कि भारतीय बल्लेबाज़ों ने कितने निम्न स्तर की बल्लेबाज़ी की थी। विराट कोहली और ऋषभ पन्त ने पारी नहीं सँभाली होती तो सौ रन भी नहीं बने होते। यदि आरोपित करना ही है तो सभी गेंदबाज़ों को क्यों नहीं? किसी भी गेंदबाज़ ने विकेट नहीं लिया था।


माना कि भारत अपेक्षाकृत अधिक भावना-प्रधान देश है। किसी भी खेल में जब भारत के खिलाड़ी प्रदर्शन कर रहे होते हैं तब उनके साथ ‘उनका देश’ भी खेल रहा होता है और उसकी हार-जीत से प्रत्येक भारतवासी प्रभावित होता है, जिसे वह अपने मन और हृदय से युक्त कर प्रसन्न-अप्रसन्न होता आया है। इसका अर्थ यह नहीं कि हम उसके लिए किसी ‘एक खिलाड़ी’ को, वह भी पाकिस्तान के मुस्लिम देश होने के कारण भारत के एक मुस्लिम खिलाड़ी पर अभूतपूर्व पराजय का दोष मढ़ दें। क्या उसके लिए कप्तान विराट कोहली अपराधी नहीं हैं, जो, यह जानते हुए भी कि मु० शमी का अपेक्षाकृत अधिक रन-औसत है, गेंदबाज़ी कराते रहे? वे मु० शमी की गेंदबाज़ी-छोर में बदलाव कर या फिर किसी वैकल्पिक गेंदबाज़ से गेंदें फेंकवाकर रनों में की जा रही वृद्धि पर नियन्त्रण कर सकते थे। कोहली भी तो गेंदबाज़ी कर सकते थे; जैसा कि इस मैच से पहलेवाले मैच में की थी?


ईशान किशन लगातार प्रभावक प्रदर्शन करते आ रहे हैं, उन्हें अवसर देना चाहिए था। रोहित शर्मा बहुत अच्छे बल्लेबाज़ हैं। उनका सभी प्रारूपों में श्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है; किसी एक मैच में वे असफल रहे तो इसका अर्थ यह नहीं कि उन्हें दल से बाहर कर दिया जाये।
यह अवश्य है कि इस विश्व कप-प्रतियोगिता में बने रहने के लिए अब भारत को अपने सभी मैच जीतने होंगे। बल्लेबाज़ी, गेंदबाज़ी तथा क्षेत्ररक्षण में कहाँ-कहाँ और क्यों चूक हुई थी, इन पर सामूहिक मन्थन कर, भारतीय खिलाड़ियों को अपने अगले मैचों के लिए एक ठोस रणनीति बनानी होगी।


(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; २६ अक्तूबर, २०२१ ईसवी।)