सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

तुष्टिकरण की राजनीति के चलते बंगाल में हिन्दुओं के लिये पर्व-उत्सव मनाना भी कठिन

अशोक सिन्हा (सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी)-


पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के कारण वहाँ हिन्दुओं के लिये पर्व-उत्सव मनाना भी कठिन हो गया है. तुष्टिकरण की राजनीति के कारण वहाँ कई स्थानों पर सरस्वती पूजन, रामनवमी और विजयदशमी आदि पर प्रतिबंध लगाये गये और हिन्दुओं को न्यायालय की शरण में जाकर न्याय प्राप्त करना पड़ा. कलियाचक तथा कालीग्राम (मालदा जिला), बशीरहाट, धूलागढ़ (हावड़ा जिला) आदि स्थानों पर हिन्दुओं पर बर्बर हमले हुए, हत्यायें आगजनी और लूटपाट की तमाम घटनाओं में राज्य पुलिस की उदासीनता अथवा पीडित हिन्दुओं को ही तंग करने की ही प्रवृत्ति सामने आयी है. सत्ताधारी तृणमूल काँग्रेस के नेता भी ऎसी घटनाओं में शामिल रहे हैं. मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी स्वयं सरस्वती शिशु/विद्या मंदिरों को बंद करने के प्रयास में जुटी हैं, जबकि अवैध इस्लामिक मदरसों को खुला प्रोत्साहन दिया जा रहा है.