किन्नर ने कहा बेटियां अगर लगें बोझ तो हमें दे दें, उनकी हत्या न करें

              हरदोई- किन्नर समाज की एक दरिया दिल किन्नर ने खेत मे मिली नवजात बच्ची का पहले तो इलाज करवाया और अब वे उसे गोद लेने के लिए बेताबी से इंतजार कर रही हैं। आंखों में आंसू लिए इस किन्नर ने बच्ची के मां-बाप की कड़े शब्दों में निंदा की।
               हरपालपुर थाना क्षेत्र की रहने वाली किन्नर काजल को सोमवार देर शाम नवजात बच्ची के खेत में पड़े होने की सूचना प्राप्त हुई इसके बाद वह आनन- फानन में वहां पहुंची और उस बच्ची को सीने से लगा कर अस्पताल ले आईं। अब वह इस बच्ची को गोद लेना चाहती हैं पर वह प्रशासनिक कार्यालयों के चक्कर काट रही हैं, लेकिन उनके इस नेक काम को अंजाम देने के आड़े तमाम मुश्किल आ रही हैं।बच्ची का इलाज हरदोई के जिला चिकित्सल्य में हो रहा है। काजल कहती हैं कि एक तरफ पीएम मोदी बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान चला कर लोगों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं, तो दूसरी तरफ लोग आज भी बेटियों को खेतों व सड़कों पर फेंक चले जाते हैं। ऐसे लोगों से काजल ने विनती करते हुए कहा है कि बेटियां अगर लोगों को बोझ लगती हैं तो उन्हें मारने के बजाय हम किन्नरों को दान में दे दिया करें।
url and counting visits