सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

सण्डीला आश्रम संचालिका की हत्या के तार मुजफ्फरनगर से जुड़े

3 सितम्बर को संडीला क्षेत्र में कृपालनगर आश्रम की संचालिका दयारानी की आश्रम परिसर स्थित कृपालभवन में कर दी गयी थी हत्या

संडीला क्षेत्र में आध्यत्मिक केन्द्र संत कृपाल नगर की संचालिका दयारानी उर्फ दया दीदी की हत्या के तार मुजफ्फरनगर के गांव मुंडभर से भी जुड़ गए है। हरदोई पुलिस ने देर रात मुंडभर गांव में छापा मारकर हत्या में शामिल एक अभियुक्त को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस के अनुसार उसने संचालिका की हत्या करना कबूल कर लिया है। हत्या में उसके साथ दो अन्य आरोपी भी शामिल बताये गए है। दोनों आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही है।
करोड़ों रुपये की सम्पत्ति की मालकिन आश्रम संचालिका की हत्या के संबंध में पुलिस पूछताछ कर रही है। हरदोई जिले में 3 सितम्बर को संडीला क्षेत्र में कृपालनगर आश्रम की संचालिका दयारानी की आश्रम परिसर स्थित कृपालभवन में हत्या कर दी गयी थी। इस हत्या के तार मुजफ्फरनगर जनपद के भौराकलां थाना क्षेत्र के गांव मुंडभर से जुडे़ है। पुलिस का कहना है कि कृपाल नगर के संस्थापक स्वामी दिव्यानंद जी महाराज शामली जनपद के रहने वाले थे। वर्ष 2014 में वे ब्रह्मलीन हो गये थे। उनके बाद आश्रम की सारी व्यवस्थाए मृतक संचालिका देख रही थी। करोड़ों रुपये की सम्पत्ति की वारिस रही संचालिका की हत्या के बाद पुलिस ने इस मामले की जांच शुरु की। संडीला सर्किल के सीओ अरुण कुमार सिंह ने बताया कि संचालिका की हत्या मुंडभर गांव निवासी तेजवीर ने अपने दो साथियों के साथ की है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। उसके दो साथियों पर पुलिस शिकंजा कसने का प्रयास कर रही है। पूछताछ में उसने बताया कि वह भी आश्रम के संस्थापक दिव्यानंद जी महाराज का शिष्य है। उनके ब्रह्मलीन होने के बाद जबरदस्ती संचालिका ने अपना अधिकार सभी आश्रमों पर जमा लिया। इस कारण वह उससे नफरत करता था। उसने पूछताछ में यह भी बताया कि ब्रह्मलीन महाराज की अस्थियां भी उसने अभी तक विसर्जित नहीं की है। आश्रम में आने जाने के कारण उसने मौका मिलते ही उसकी हत्या कर दी। आश्रम अमेरिका, जापान, जर्मनी आदि देशों में भी है। संचालिका एक माह पूर्व ही जर्मनी से वापस लौटी थी।