नोडल अधिकारी शौचालय सत्यापन स्वयं करेगें:- पुलकित खरे

गांव जाने के एक दिन पहले गांव के प्रधान, सिक्रेटरी से बात कर लें :- जिलाधिकारी

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत 02 अक्टूबर 2018 तक जनपद को खुले में शौच मुक्त करने की दिशा में प्रगति लाने के लिए शौचालय निर्माण की समीक्षा के लिए तैनात जोनल/उप जिलाधिकारी व तहसीलदार एवं नोडल/जिला स्तरीय अधिकारियों की रसखान प्रेक्षागृह में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी पुलकित खरे ने कहा कि सभी अधिकारी उनके द्वारा दिये दिशा निर्देशों को ठीक प्रकार पढ़ लें और उसी के अनुसार गांवों में शौचालों का सर्वेक्षण करें तथा दिये गये फार्म पर बिन्दुवार आख्या अंकित करें।
उन्होने नोडल अधिकारियों से कहा कि वह अपने जोनल अधिकारियों के संपर्क में रहे और गांव जाने से पहले जिला पंचायत राज अधिकारी एवं खण्ड विकास अधिकारी से गांव के प्रधान, सिके्रटरी के साथ सफाई कर्मचारी आदि के नम्बर मालूम कर लें और गांव जाने के एक दिन पहले गांव के प्रधान, सिक्रेटरी एवं अन्य कर्मचारियों से बात कर लें ताकि सर्वेक्षण के समय ब्लाक स्तर का एक कर्मचारी अवश्य उपस्थित रहे ताकि वह गांव के बारे में पूर्ण जानकारी दे सकें।
उन्होने कहा कि सर्वेक्षण के दौरान गांव में निर्मल भारत योजना में जो शौचालय बने थे या जिन लोगों ने स्वयं के संसाधनों से अपने शौचालयों का निर्माण कर लिया है उन्हें शौचालय की धनराशि नही दी जायेगी। उन्होने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालयों की धनराशि ग्राम प्रधानों के खातों में भेजी गयी है और ग्राम प्रधान को शौचालय निर्माण कराना हैं।
उन्होने कहा कि गांव में पहुंच कर ग्राम प्रधान, सिक्रेटरी एवं गांव के अन्य लोगों के साथ बैठक करें तथा निर्मित एवं निर्माणाधीन शौचालयो का सत्यापन करें, और सत्यापन में जिन गांवों की धनराशि प्रधानों के खातों में भेज दी गयी और खाते में धनराशि आये एक सप्ताह से अधिक हो गया है और शौचालय निर्माण कार्य प्रारम्भ नही कराया है तो ऐसे प्रधानों की भी आख्या देनी होगी। जिलाधिकारी ने कहा कि गांव में कितने परिवार है और किन परिवारों मंे निर्मल भारत योजना, स्वच्छ भारत मिशन एवं व्यक्तिगत शौचालय है। उन्होने कहा कि सभी नामित नोडल अधिकारी शौचालय सत्यापन स्वयं करे और सर्वेक्षण आख्या फोटो सहित अपने जोनल अधिकारी को देगें और जोनल अधिकारी द्वारा सर्वेक्षण आख्या का अवलोकन कर आख्या सुपर जोनल/मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से उन्हें दी जायेगी।
जिलाधिकारी ने कहा समीक्षा आख्या पूरी तरह से सही – सही होनी चाहिए अन्यथा संबंधित नोडल अधिकारी जिम्मेदार होगें। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार, सभी उप जिलाधिकारी, तहसीलदार, जिला पंचायत राज अधिकारी अनिल कुमार सिंह, खण्ड विकास अधिकारी एवं जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहें।
url and counting visits