पति के मामू ने किया बलात्कार, पीड़िता ने डीजीपी से की शिकायत

सण्डीला-बांगरमऊ मार्ग पर नहर के पुल की रेलिंग महीनों से टूटी पड़ी, क्या आदित्यनाथ योगी सरकार फिर से किसी बड़े हादसे का इन्तज़ार कर रही है ?

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’-

उन्नाव : लोक निर्माण विभाग की खाऊ-कमाऊ नीति के चलते उन्नाव जनपद में पड़ने वाले सण्डीला बांगरमऊ मार्ग पर गोसवा के निकट नहर पुल की बदहाल स्थिति यात्रियों के लिए मौत का सबब बन गयी है ।

व्यस्त मार्ग होने के कारण कभी भी किसी बड़े हादसे की सम्भावित घटना से इन्कार भी नहीं किया जा सकता है । मालूम हो कि करीब 6 माह पूर्व भी इसी पुल के किनारे टूटे होने के कारण एक कार नहर में किर गयी थी और तीन व्यापारियों की मौत हो गयी थी । तब आनन-फानन में पुल की मरम्मत करा दी गयी थी । किन्तु मरम्मत सरकारी तरीके से ही की गयी थी जिससे वह चार महीने में ही पुनः टूट गयी । टूटने से पहले इसमें पड़ी दरार साफ़ देखी जा सकती थी ।

लोक निर्माण विभाग के कान पर एक महीने से जूं तक नहीं रेंगी है जबकि मीडिया द्वारा इस पर अधिकारियों का ध्यान भी आकृष्ट कराया गया है । मालूम हो कि सण्डीला-बांगरमऊ मार्ग पर गोसवा के निकट नहर पुल की रेलिंग बीच से टूटी हुई है । स्थानीय लोगों से पूछने पर पता चला कि किसी बड़े वाहन की टक्कर से यह पुल महीने भर से ज्यादा पहले टूटा था । इस मार्ग से  कई नेताओं और अधिकारियों का आना-जाना लगा रहता रहता है किन्तु जनता की असुविधा से उनका क्या लेना-देना है ? क्या आदित्यनाथ योगी सरकार फिर से किसी बड़े हादसे का इन्तज़ार कर रही है । उक्त मार्ग गाँवों से गाँवों को जोड़ने वाला सम्पर्क मार्ग नहीं है । यह मार्ग व्यस्तता में राज्यमार्ग की तरह है । इस मार्ग से हजारों ट्रक, बस व अन्य बड़े वाहनों का आवागमन होता है ।

url and counting visits