सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

प्रयागराज मे बाढ़ की विभीषिका; सरकारें उदासीन!..?

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

केन्द्र और राज्य-सरकारें, जिस हिन्दू और हिन्दुत्व के नाम पर ‘वोट’ बटोरती आ रही हैं, उन्हीं हिन्दुओं की दुरवस्था पर मौन हैं। प्रयागराज मे हिन्दुओं के घरों मे पानी, मन्दिरों के भीतर पानी; जिधर देखो, पानी-ही-पानी! उन हिन्दुओं की कोई खोज-ख़बर लेनेवाला तक नहीं।

हाँ, यह कथित हिन्दू भी एक विचित्र जीव है :– हिन्दू-मुस्लिम की प्रेतच्छाया के प्रकट कराते ही अपने वास्तविक रूप मे आ जाया करता है। यही हिन्दू-मत की विडम्बना भी है। यही कारण है कि हिन्दूमतावलम्बी को जितनी प्रगति करनी चाहिए थे, नहीं कर पाया है और यही गर्हित मनोवृत्ति बनी रही तो निष्ठापूर्वक कर भी नहीं पायेगा।

(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; २३ अगस्त, २०२२ ईसवी।)