मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

आवर्तन और दरार : ‘नीति’ छिछोरी दिख रही, ‘राज’ हुआ असहाय!

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

एक :
राष्ट्रवाद छद्म बना, चहुँ दिशि दिखते चोर।
मुँह काला हो रात में, चन्दन चमके भोर।।
दो :
तन पाप में ख़ूब रमा, पुण्य नहीं है पास।
मुखमण्डल जल्लाद-सा, कैसे आये रास?
तीन :
सत्तासुख की चाह में, करते सभी उपाय।
दन्दी-फन्दी हर जगह, साधु बने निरुपाय।।
चार :
नेता नोचे देश को, दिखते मानो गिद्ध।
हरकत बगुला भगत-सी, लगते मानो सिद्ध।।
पाँच :
‘नीति’ छिछोरी दिख रही, ‘राज’ हुआ असहाय।
सत्ता संदूषित यहाँ, दिखते नहीं सहाय।।
(सर्वाधिकार सुरक्षित : डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; ३१ अक्तूबर, २०१९ ईसवी)