संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

यादों की एक कापी

आखिरी भ्रम था
छटने लगा धुंध परछाईयों से
तुम मेरे साथ हो !

अजीब किनारे से चुप होकर
प्रतिक्रिया देने के लिए हर बार
एक सीधा सवाल कर जाते हो ।

आखिरी भ्रम था
ये सीधी सरल जिंदगी अभी
दो कदम चलने की वेला में
किनारों पर तुम्हें चुपचाप बैठ जाना
एक सीधा सवाल कर जाते हो

साथ चलने की आदत न रही
खूब रही , तालमेल बिठाने की

कभी -कभी खुद से तुलना कभी
अनजान अतुलनीय लोगों
कहाँ समानता मिल सकेगी
हर इंसान होते है

आखिरी भ्रम था
दौड़ में एक पंक्ति साथ होती है
आखिरी वक्त में इंसान अकेला होता है
जब उसे साथ की जरूरत होती है
एक सीधा सवाल कर जाते हो ।

आखिरी भ्रम था
तुम मेरे साथ हो ।


—–आकांक्षा मिश्रा