संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

यह जिंदगी भी किसी खेल से कहाँ कम है

कभी हँसाती है तो
कभी रुलाती है।
यह जिंदगी
समझ नहीं आती है?
कभी खुशियां है तो
कभी गम है ।
यह जिंदगी भी
किसी.खेल से
कहां कम है।
कभी दोस्त हैं तो
कभी दुश्मन है ।
तो जिंदगी में
कही ग़म है तो
कही हम है।
कभी दिल की धड़कन है तो ,
कभी दिमाग की सोच है,
जनाब यही तो जिंदगी है।

संजना
11वीं कक्षा की छात्रा
कांगड़ा/हिमाचल प्रदेश।