संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

कविता : मेरे ख़ुदा

मैं फकीर हूँ,
तेरे दर का खुदा
मेरी आजमाइश न कर।
तू पीर है मेरा,
मेरे खुदा
मेरी जग हंसाई न कर।
मैं कमजोर लाचार हूँ,
मेरे खुदा
मेरा तू हम राही बन।
मैं अनजान हूँ,
तेरी इस कायनात से
मेरे खुदा
तू मेरा हमराज बन।
मैं मुरीद हूँ तेरा
मेरे खुदा,
तू अब मेरा मुर्शिद बन।

राजीव डोगरा
(युवा कवि लेखक)
गांव जनयानकड़
पिन कोड -176038
कांगड़ा हिमाचल प्रदेश
9876777233
7009313259
rajivdogra1@gmail.com

मौलिकता प्रमाण पत्र : मेरे द्वारा भेजी रचना मौलिक तथा स्वयं रचित है जो कहीं से भी कॉपी पेस्ट नहीं है।