कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

निराश क्यों ?

आकांक्षा मिश्रा बस्ती उत्तर -प्रदेश-


 हे मनुष्य !!

तुम कभी विफल नहीं हुए

फिर अकारण निराश क्यों ?

कल्पना के अधीन होकर

स्थिरता का कैसा विस्तारण

हो रहा हे मनुष्य !!!

प्रकृति का स्पर्श ही

मन को पुलकित कर

नवीनता का आह्वान

कर रहा मनुष्य

अधीर होकर पीड़ाओं को

जन्मजात गोद में ले रहा

यह असफलता का द्वार है ….।

हे मनुष्य !!!

देखो प्रकृति का सुंदर दृश्य

सुबह जो अब धीरे -धीरे

दोपहरी में ढलती हुई

साँझ में ढलकर

सुबह का आह्वान करती हैं

संसार को खूबसूरत बनाकर

भिन्न -भिन्न रंगो से सजाकर

पुनः मनुष्य के आँखों में

सुनहरे सपनों के लिए

आशा का पुनः संचार कर रही हैं ।।