संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

यूरोपीय परिषद् की समिट में कल हिस्सा लेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बाद इस प्रारूप की बैठक में भाग लेने वाले दूसरे राष्ट्राध्यक्ष होंगे प्रधानमंत्री मोदी
  • समिट में सभी शीर्ष नेता कोरोना महामारी से जुड़ी स्वास्थ्य सेवाओं के सहयोग पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे 

7 मई, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को सभी 27 यूरोपीय संघ के सदस्यों, राष्ट्राध्यक्षों या शासनाध्यक्षों के साथ एक वर्चुअल समिट में हिस्सा लेंगे। भारत-यूरोपीय संघ के नेताओं की बैठक पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा द्वारा आयोजित की गई है। ऐसा दूसरी बार होगा जब यूरोपीय संघ+27 के प्रारूप में कोई राष्ट्राध्यक्ष भाग ले रहा हो। इससे पहले इस प्रारूप में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस साल मार्च में मुलाकात की थी।

इस सम्बंध में भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल के निमंत्रण पर पीएम मोदी 8 मई को एक विशेष आमंत्रित के रूप में यूरोपीय परिषद की बैठक में भाग लेंगे। ये सभी शीर्ष नेता कोरोना महामारी से जुड़ी स्वास्थ्य सेवाओं के सहयोग पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। इसके अलावा समिट में स्थायी और समावेशी विकास को बढ़ावा देना, भारत-यूरोपीय संघ की आर्थिक साझेदारी, और आपसी हित के क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों को मजबूत करने पर भी चर्चा होगी।

पुर्तगाल जाने वाले थे प्रधानमंत्री मोदी
बता दें कि पुर्तगाल वर्तमान में यूरोपीय संघ परिषद की अध्यक्षता करता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत-यूरोपीय संघ शिखर बैठक में हिस्सा लेने इस महीने पुर्तगाल की यात्रा पर जाने वाले थे, लेकिन कोरोना की स्थिति को बिगड़ता देख अब यह बैठक वर्चुअल माध्यम से होगी। इस बैठक में कोरोना महामारी को लेकर चर्चा की जाएगी। भारत-यूरोपीय संघ के नेताओं की बैठक ईयू+27 प्रारूप में पहली बार आयोजित की जा रही है। 

भारत की मदद कर रहे यूरोपीय देश
कोरोना से जारी लड़ाई में यूरोपीय देश भारत की मदद कर रहे हैं। बीते 5 मई को इटली ने ऑक्सीजन जनरेटर भेजा था, जिसे नोएडा के ITBP अस्पताल में एक इतालवी टीम द्वारा स्थापित किया गया है। वहीं पोलैंड द्वारा भेजे गए 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर 7 मई को यहां पहुंच गए हैं। इससे पहले नीदरलैंड ने एक शिपमेंट में 450 वेंटिलेटर, 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और अन्य चिकित्सा आपूर्ति भारत भेजा था। इसके अलावा जर्मनी ने भी भारत की मदद के लिए ऑक्सीजन जनरेटर भेजा है, जो प्रतिदिन 4 लाख लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करेगा। इसे जर्मन वायु सेना का विमान ला रहा है। ये जनरेटर दिल्ली के सरदार वल्लभभाई पटेल हॉस्पिटल में स्थापित किया जाएगा।