धरना-प्रदर्शन कर शासन से पेप्सिको प्लाण्ट बन्द कराने को करेंगे आर-पार की लड़ाई : डाo संदीप पाण्डेय

गिरते जल-स्तर पर ग्रामीणों व किसानों में चिन्ता

कछौना (हरदोई): वर्तमान समय में कछौना व संडीला में भूगर्भ जल-स्तर तेजी से नीचे गिर रहा है। समय रहते इन हालातों पर काबू करने का प्रयास नही किया गया तो आम जनमानस के सामने जलसंकट की एक विकराल समस्या खड़ी हो जायेगी, जिसका मुख्य कारण संडीला के ग्रामसभा सोम में पेप्सी संयंत्र के स्थापित होने के कारण 5 से 15 लाख लीटर पानी रोजाना जमीन के नीचे से निकाला जा रहा है।

 

एक लीटर शीतल पेय बनाने में 3 लीटर पानी खर्च होता है। यह कम्पनियां पानी के 50 प्रतिशत बाज़ार पर काबिज हैं। यह कंपनी भूगर्भ जल प्राधिकरण के नियमों का उल्लंघन करके स्थापित की गयी है। जिसके विरोध में बुधवार को मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित डाo संदीप पाण्डेय के नेतृत्व में सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन कर नारेबाज़ी की। सामाजिक कार्यकर्ता अशोक भारती, नीलकमल, धर्मेन्द्र विश्वकर्मा, जगदीश वर्मा, राहुल कुमार, भगवानदीन, रवीन्द्र, राकेश सिंह, धनीराम भारती, अनिल मिश्रा, अभिषेक पटेल, प्रवीण कुमार, सत्येन्द्र कुमार एडवोकेट, क्षेत्रीय विकास जन आंदोलन के अध्यक्ष रामखेलावन कनौजिया सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने पेप्सी प्लांट को बंद कराने की मांग को लेकर फैक्ट्री के मुख्य गेट पर बैठ गये।

भविष्य में जल संकट की समस्या विकराल रूप से खड़ी हो जायेगी। क्षेत्र के इण्डिया मार्का नल जवाब दे गये हैं। बोरिंग बैठ गयी है। किसानो के सामने सिचाई का संकट खड़ा है। घरेलू नलों के जवाब देने के कारण लोगों के सामने पेयजल की समस्या खड़ी हो गयी है। आम जनमानस त्राहि-त्राहि करने लगा है। यह कंपनियां सुविधाशुल्क की दम पर चल रही हैं। इनमें पानी संचय को कोई प्रभावी कदम नही उठाया गया है। जबकि नियम है कि बिना रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के फैक्टरियों को एनओसी नही दी जा सकती है। वह दिन दूर नही जब तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिये होगा। जल को बचाने के लिये टीम ने गांव-गांव जाकर पैदल यात्रा करके ग्रामीणों को पेप्सी प्लाण्ट में अन्धाधुन्ध हो रहे जल दोहन से होने वाली समस्याओं के बारे मे जागरूक करके पेप्सी प्लाण्ट को बन्द कराने के लिये सरकार पर दबाव बनायेंगे। ग्राम पंचायत शीघ्र ग्रामसभा में प्रस्ताव करके पेप्सी प्लाण्ट-रो बंद कराने का प्रस्ताव करेगी। यह लड़ाई प्लाण्ट जब तक बंद नही हो जायेगा तब तक जारी रहेगी।


रिपोर्ट- पी.डी. गुप्ता

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Solve : *
25 − 24 =


url and counting visits