शिक्षक नियमावली के विरुद्ध शिक्षक मूल्यांकन परीक्षा का बहिष्कार

कछौना(हरदोई): शिक्षक नियमावली के विरुद्ध सभी शिक्षक संगठन एकजुट होकर शिक्षक मूल्यांकन परीक्षा का बहिष्कार करने हेतु ब्लॉक मुख्यालय पर डटे।

विदित हो कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी की हठधर्मिता के कारण सभी परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों की योग्यता का मूल्यांकन हेतु परीक्षा रविवार को सुनिश्चित की गई थी। जिसका सभी शिक्षक संगठनों ने विरोध जाहिर करते हुए बताया कि यह बेसिक शिक्षा के नियमावली के विरुद्ध है। शिक्षक संगठनों ने मांग की है कि हमसे केवल शिक्षण कार्य कराया जाए जिससे शैक्षिक गुणवत्ता बेहतर हो सके। अन्य कार्य मिड-डे मील, मतदाता पुनर्निरीक्षण, डाटा संकलन, भवन निर्माण, ड्रेस, जूता, बैग वितरण आदि से मुक्त कराकर केवल शिक्षण कार्य कराया जाए। अध्यापकों के गुस्से का शनिवार को बेसिक शिक्षा अधिकारी को सामना करना पड़ा । जिसमें सभी प्राथमिक शिक्षक व जूनियर शिक्षक, शिक्षामित्र, अनुदेशकों ने भाग लिया। शिक्षकों के विरोध के चलते जिला बेसिक अधिकारी ने परीक्षा स्थगित कर दी। सुबह से ही ब्लॉक संसाधन केंद्र कछौना पर शिक्षकों ने डटना शुरू कर दिया। धरना प्रदर्शन शांतिपूर्वक चलता रहा। शिक्षकों ने पूरी मर्यादा व शिष्टाचार के साथ अपनी गरिमा के अनुरूप परीक्षा का बहिष्कार किया। आखिर प्रशासन को अपना निर्णय वापस लेना पड़ा। इस निर्णय के खिलाफ संगठन हाई कोर्ट भी गए थे। जिसकी तारीख 23 अप्रैल को माननीय न्यायालय में सुनवाई है। वही खंड शिक्षा अधिकारी वि०एन० पाठक की भ्रष्ट कार्यशैली पर प्रश्न उठाया। शिक्षकों के साथ उसका व्यवहार अभद्र होता है।

इस कार्यक्रम में जूनियर शिक्षक संगठन अध्यापक वैभव शर्मा, गौरव पांडे, प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष जितेंद्र कनौजिया, शिक्षा मित्र संगठन के अध्यक्ष अरुण दीक्षित, अनुदेशक शिक्षक संगठन के पदाधिकारी सहित समस्त अध्यापकगण मौजूद थे।


रिपोर्ट- पी. डी. गुप्ता

url and counting visits