संस्थागत, प्राईवेट नर्सिंग होम एवं घरों में होने वाले प्रसव के सम्बन्ध में जानकारी उपलब्ध करायें :- जिलाधिकारी

स्वास्थ्य केन्द्रों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों पर होने वाले कार्यक्रमों का प्रचार-प्रसार पहले से करायें - पुलकित खरे

जिला स्वास्थ्य समिति, शासी निकाय की कलेक्ट्रेट सभागार में विगत 07 सितम्बर 2019 की देर सायं आहूत समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी पुलकित खरे ने उपस्थित समस्त एमओआईसी से कहा कि संस्थागत, प्राईवेट नर्सिंग होम एवं घरों में होने वाले प्रसव के सम्बन्ध में एएनएम एवं आशा से जानकारी लेकर आन लाइन फीड करना सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि सभी एमओआईसी अपने-अपने क्षेत्र के जो जर्जर एवं अनुपरोगी सव सेन्टर है उनकों छोड़कर, जो सव सेन्टर दरवाजे-खिड़की टूटे होने एवं छोटी-मोटी टूट-फूट होने के कारण बन्द है वहां यह कमियां ठीक कराते हुए सबसेन्टरों को प्रसव के लिए तत्काल क्रियाशील करायें। जिलाधिकारी ने कहा कि सबसेन्टरों पर बिजली एवं पानी की समस्या का हल जिलास्तर से शीघ्र ही करा दिया जायेगा।

समीक्षा बैठक में जेएसवाई लाभार्थी एवं आशाओं के भुगतान पर जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि इनका भुगतान समय से करायें। उन्होने कहा कि सभी एमओआईसी अपने -क्षेत्र के गांवों में कैम्प/चौपाल के माध्यम से पात्र आयुष्मान भारत के लाभार्थियों एवं सुमंगला योजना में अधिक से अधिक आने वाली बालिकाओं के फार्म भरवायें तथा अपने आपरेटरों के माध्यम से फार्मों की फीडिंग भी करायें।

जिला चिकित्सालय तथा समस्त सीएचसी/पीएचसी पर चिकित्सकों एवं कर्मचारियों की उपस्थित बायोमैट्रिक मशीन से देने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने सभी को निर्देश दिये कि 16 सितम्बर 2019 तक खराब बायोमैट्रिक मशीनों को ठीक कराकर उपस्थित प्रतिदिन भेजना सुनिश्चित करेगें।

कुपोषित बच्चों को एनआरसी पर भर्ती कराने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने कहा सभी एमओआईसी, सीडीपीओ, एएनएम, सहयिकाओं, आशा एवं आंगनबाड़ी के साथ समन्वय बनाकर माह में एक-दो बार बैठक अवश्य करें और क्षेत्र के अतिकुपोषित गांव के ग्राम प्रधान को साथ लेकर बच्चे के माता-पिता को समझा कर बच्चे को एनआरसी पर अवश्य भर्ती करायें।

समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने जननी सुरक्षा, मातृ मृत्यु, परिवार नियोजन, बाल स्वास्थ्य, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, नियमित टीकारण, पुनरक्षित क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम, कुष्ठ नियंत्रण, अधंता, निवारण तथा वेक्टर जनित रोग नियंत्रण के तहत सीएचसी/पीएचसी, ग्रामीण क्षेत्र तथा जिला चिकित्सालय में सम्पन्न कराये गये कार्यक्रमों के सम्बन्ध में सभी एमओआईसी से जानकारी प्राप्त की।

उन्होंने कहा कि सभी स्वास्थ्य कैम्प एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों पर होने वाले ग्रामीण स्तर पर कार्यक्रमों के सम्बन्ध में गांव में प्रचार प्रसार पहले से करा दें और कार्यक्रम के दिन आशा एवं आंगनबाड़ी घर-घर जाकर गांव के लोगों आने के लिए प्रेरित कर लायेंगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एसके रावत, चिकित्सा अधिक्षक पुरूष एके शाक्य, चिकित्सा अधीक्षक महिला श्री सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी बुद्धि मिश्रा, सहित डा0 स्वामी दयाल, डा0 विजय सिंह, डा0 विजय कुमार, डब्लूएचओ, यूनीसेफ की संजू कश्यप सहित सभी एमओआईसी आदि मौजूद रहें।

url and counting visits