उप्र में पेयजल आपूर्ति के लिए 142 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत : डॉ महेंद्र सिंह

ग्राम्य विकास मंत्री श्री डॉ महेंद्र सिंह नेआज केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती से दिल्ली में मुलाकात की और प्रदेश के पेयजल संकट व पेयजल आपूर्ति संबंधी समस्याओं से अवगत कराते हुए केन्द्रीय सहायता का अनुरोध किया। इस संबंध में अधिकारियों के साथ एक बैठक भी हुई, जिसमें उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास श्री अनुराग श्रीवास्तव भी शामिल थे। सुश्री उमा भारती ने डॉ महेन्द्र सिंह के अनुरोध पर उप्र में पेयजल आपूर्ति के लिए 142 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की। इसके अलावा उन्होंने विभागीय योजनाओं को पूर्ण करने के लिए आवश्यक धनराशि दिये जाने का आश्वासन भी दिया। साथ ही उन्होंने बुन्देलखण्ड और संकट से जूझ रहे इसके समान अन्य जनपदों की पेयजल सम्बन्धी समस्याओं के समाधान के लिए नीति आयोग से बात करके विशेष पैकेज दिलाने की बात कही।

डॉ महेंद्र सिंह ने जेई/एईएस प्रभावित जिलों का मुद्दा उठाए जाने पर सुश्री उमा भारती ने कहा कि दिमागी बुखार से प्रभावित जिलों को इस बीमारी पर काबू पाने के लिए विशेष धन भी दिया जायेगा। इसके साथ ही जेई/एईएस बीमारी पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने के लिए दिल्ली से एक विशेष टीम भेजी जायेगी। डॉ महेंद्र सिंह ने केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री अमरजीत सिन्हा से भेंट की।

ग्राम्य विकास मंत्री ने उत्तर प्रदेश में ग्राम्य विकास द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से अवगत कराया और केन्द्रीय सहायता दिये जाने का अनुरोध किया। डॉ महेन्द्र सिंह के आग्रह पर ग्रामीण विकास मंत्रालय ने मनरेगा योजना के संचालन के लिए एक हजार करोड़ रुपये और प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के लिए एक हजार करोड़ रुपये दिये जाने की स्वीकृति प्रदान की। इसके अलावा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अन्तर्गत 2400 किमी सड़क दिये जाने की स्वीकृति भी प्रदान की गई। डॉ महेन्द्र सिंह ने उप्र को विशेष आर्थिक सहायता एवं पैकेज दिलाये जाने के लिए सुश्री उमा भारती एवं श्री नरेन्द्र सिंह तोमर का आभार व्यक्त किया ।

url and counting visits