ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

खद्दर के सारे धर्म यहाँ, अब ‘कुर्सीवादी’ हो गये!

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय


‘परिवारवाद’ अलापते, वे परिवारवादी हो गये,
जाति-ज़हर घोलते वे, अब समाजवादी हो गये।
“बहुजन हिताय” ग़ायब, ख़ुद के हित हैं साधते,
पालकर अम्बेडकर भूत, वे दलितवादी हो गये।
राममन्दिर बिसर गये, अब ‘हिन्दू-हिन्दू’ जप रहे,
कैसे कहें सच में उनको , वे हिन्दूवादी हो गये।
खाते तो हैं भारत की, और गाते चीन-रूस की,
देखो भइया! कैसे-कैसे, अब साम्यवादी हो गये।
राष्ट्रवाद से जिनका कभी, गहरा नाता होता था,
छोड़ शरीर पूरा अब, जनाब पंजावादी हो गये।
निर्लज्ज-बेहया राजनीति को क़रीब से देखो,
खद्दर के सारे धर्म यहाँ, अब कुर्सीवादी हो गये।
(सर्वाधिकार सुरक्षित : डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, इलाहाबाद; २७ जनवरी, २०१८ ई०)

url and counting visits