ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

लगता है चुनाव आ रहे……

दीपक श्रीवास्तव “दीपू”-

दीपक श्रीवास्तव “दीपू”

सुबह-सुबह वो कुण्डी खटका रहे
ना पूछने पर भी परिचय बता रहे
लगता है चुनाव आ रहे …

जो ना घूमते थे कभी गलियों में
अब वो बच्चो को टाफियां खिला रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे.

कभी हम थे चरणों में आज वो आ रहे ।
फिर बिना बात के खीसें निकाल रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे ….

हँसी आती है उनके अंदाज़ देखकर ।
फिर वो रिश्तों का जनाज़ा निकाल रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे …

आज मुस्कुराकर हाल-चाल पूछ रहे ।
और साथ में चुनाव निशान दिखा रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे …

कहते है पुराना भूल जाओ दादा
फिर से विकास की गंगा बहा रहे।
लगता है चुनाव आ रहे ..

हमको सब पता है अपने गॉव का
फिर भी बूथ का रास्ता बता रहे
लगता है चुनाव आ रहे …

जिनको अपना भविष्य खुद नहीं पता
और वो मेरा भविष्य बाँच रहे
लगता है चुनाव आ रहे…

हार जीत का पता नहीं उनको
ज्योतिष को हाँथ दिखा रहे।।
लगता है चुनाव आ रहे..

खीसें निकाल कर वो वोट की गुहार लगा रहे
अपनी जीत के लिए यज्ञ करा रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे…

हम तो पहले से ही जागरूक बैठे हैं ।
वो फिर अपनी गाड़ियों में धुंतुरु बंधा रहे ।।
लगता है चुनाव आ रहे…

इतना सब सुनकर हम भी मुस्करा दिए
वो अब भी अपनी गलतियों पर पर्दा डाल रहे।।
हाँ हाँ हाँ भैया चुनाव आ गए..

url and counting visits