संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

आचार्य पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला में अमर उजाला के कल के अंक में ‘आलस्य की पाठशाला’

प्रिय विद्यार्थिवृन्द!
सारस्वत पथ पर अग्रसर रहे!

कल आता है; क्योंकि कल ३० जून है और दिन बुद्धवार। आप इसी दिन प्रतिसप्ताह ‘अमर उजाला उड़ान’ पत्रिका में ‘मार्गदर्शन’ स्तम्भ के अन्तर्गत ‘व्यक्तित्व-संवर्द्धन’ और ‘व्यक्तित्व-परीक्षण’ से सम्बन्धित ऐसे विचार और चिन्तन-प्रधान लेख का अध्ययन करते हैं, जो आप सभी के लिए, विशेषत: प्रतियोगितात्मक परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए अत्युपयोगी (अति+उपयोगी) सिद्ध होता आ रहा है। ऐसे परीक्षोपयोगी लेख आपके लिए फ़ीचर सम्पादक प्रियवर ‘अभिषेक सक्सेना जी’ कभी ‘कवर स्टोरी’ तो कभी ‘मार्गदर्शन’ के अन्तर्गत आकर्षक ढंग से प्रस्तुत करते आ रहे हैं। हमने पिछले माह आप सभी के लिए ‘अनुवादकला का ज्ञान’ और गत बुद्धवार को ‘संक्षेपण’/’सारलेखन’-कला का बोध विस्तारपूर्वक कराया था।

‘मार्गदर्शन’ के अन्तर्गत ‘कल’ (३० जून) के अंक में हम आपको ‘आलस्य की पाठशाला’ में ले चलेंगे और वहाँ के परिवेश से परिचित कराते हुए, आपकी ‘विजिगीषा’ (जीतने की प्रबल इच्छा) की ‘उड़ान’ का अनुभव करायेंगे, जो कि आपको स्वत:-स्फूर्त चेतना के साथ सम्पृक्त (जोड़ती) करती है और आपके मन-प्राण को आशा, विश्वास तथा कर्त्तव्यपरायणता से सम्बद्ध भी।

आप ‘अमर उजाला उड़ान’ के आन्तर्जालिक (ऑन-लाइन) ग्राहक बनकर प्रतिसप्ताह ज्ञानगंगा में डुबकी लगा सकते हैं।
तो आइए! उपर्युक्त ‘कल’ की प्रतीक्षा करें।