ललित कला उत्सव के अन्तिम दिवस आयोजित हुई समकालीन कला पर परिचर्चा

राज्य ललित कला अकादमी के 62वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित तीन दिवसीय ‘ललित कला उत्सव’ के तीसरे और अन्तिम दिन के समारोह की अध्यक्षता मुख्य अतिथि के तौर पर मंत्री, संस्कृति एवं पर्यटन श्री जयवीर सिंह ने की। इस अवसर पर मंत्री जी ने कलाकारों के सर्जन की प्रशंसा की और ललित कला उत्सव के आयोजन के लिए बधाई दी।

उन्होंने कहा कि ललित कला अकादमी ने अपने कार्य का विस्तार पूरे प्रदेश में किया है, यह सराहनीय है। विभाग और सरकार का यही उद्देश्य है कि पूरे प्रदेश को संस्कृति विभाग व ललित कला अकादमी की योजनाओं का लाभ और कलाकारों को अवसर मिलने चाहिए। उत्तर प्रदेश सरकार ऐसे प्रयास भी कर रही है कि ऐसे कलाकारों को भी अपनी कला के प्रदर्शन का अवसर मिले जिनको पहले कभी अवसर नहीं मिला है। प्रत्येक वर्ष में एक कलाकार को कम से कम तीन कार्यक्रम दिलाया जाना सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने ललित कला उत्सव में आयोजित प्रतियोगिताओं के सभी विजेताओं को बधाई दी।

ललित कला उत्सव के तीसरे व अंतिम दिन समकालीन कला पर परिचर्चा का आयोजन हुआ। सलाहकार, संत कबीर अकादमी श्री आशुतोष द्विवेदी के संयोजन में हुई इस परिचर्चा में विशेषज्ञ वक्ता के तौर पर इतिहासविद् डाॅ0 रवि भट्ट, कला विशेषज्ञ प्रो0 उमेश कुमार सक्सेना, डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास वि0वि0 के असिस्टेन्ट प्रोफेसर डाॅ0 अवधेश मिश्र एवं कला एवं शिल्प महाविद्यालय के असिस्टेन्ट प्रोफेसर डाॅ0 संजीव किशोर गौतम ने प्रतिभाग किया। सभी विज्ञ वक्ताओं ने ललित कलाओं को और अधिक भाव पूर्णता के साथ अर्थपूर्णता की ओर ले जाने की वकालत की। उन्होंने ललित कलाओं के प्रबन्धन में रत संस्थाओं, अकादमियों को प्रभावी योजनाओं के साथ स्वायत्ता पूर्ण कार्य करने की सलाह दी।

ललित कला उत्सव में दिनांक 08 फरवरी, 2023 को आयोजित इंस्टालेशन प्रतियोगिता के प्रतिभागियों में से उत्कृष्ट इंस्टालेशन के लिए श्री शिवम सिंह (ग्रुप) कला एवं शिल्प महाविद्यालय, लखनऊ; श्री धर्म सेन पाल, श्री शिवम मौर्या (ग्रुप); श्री नूतन किशोर निषाद एवं सुश्री अनामिका सिंह (ग्रुप) क्षेत्रीय कला केन्द्र, ललित कला अकादमी, लखनऊ; सुश्री मीनू रानी (ग्रुप) ललित कला संकाय, कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, हरियाणा; श्री अक्षांस (ग्रुप) कला एवं शिल्प महाविद्यालय, लखनऊ को रूपये 3,000/- नगद का पुरस्कार प्रदान किया गया।
ललित कला उत्सव में दिनांक 08 फरवरी, 2023 को आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता के प्रतिभागियों में से उत्कृष्ट सृजनकर्ता श्री मिथिलेश प्रसाद-वाराणसी; श्री अभिनय सिंह-देवरिया; श्री प्रियांशु श्रीवास्तव-सीतापुर; सुश्री करूणा तिवारी-लखनऊ; श्री राजेश कुमार वर्मा-लखनऊ को लखनऊ को रूपये 3,000/- नगद का पुरस्कार प्रदान किया गया।

ललित कला उत्सव के अंतिम दिन दिनांक 09 फरवरी, 2023 को रंगोली व अमृत कलश सज्जा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें से 5 उत्कृष्ट रंगोली एवं 5 उत्कृष्ट कलश सज्जा हेतु प्रतिभागियों को रूपये 3,000/- नगद का पुरस्कार प्रदान किया गया।