सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों का ‘टी-२० विश्व-क्रिकेट-इतिहास’ का सर्वाधिक शर्मनाक प्रदर्शन, जिसने भारत को हराने मे योगदान किया है

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

★ भारत-श्रीलंका के बीच आज (५ जनवरी) पुणे मे खेले गये ‘मास्टरकार्ड तीसरे टी-२०’ क्रिकेट-मैच का विवरण :―
◆ २० ओवरों के खेल मे भारतीय तेज़ गे़दबाज़ों ने ७ ‘नो बॉल’ फेंके थे, जिनकी भारत को हराने मे महत्त्वपूर्ण भूमिका थी।
◆ अर्शदीप के द्वारा लगातार तीन बार ‘नो बॉल’-सहित कुल पाँच बार ‘नो बॉल’ फेंके थे। अर्शदीप ने बेहद लचर गेंदबाज़ी कर, दो ओवरों मे ही ३७ रन लुटा दिये थे।
◆ भारतीय गेंदबाज़ों ने पाँच ओवरों (३० गेंद) मे ७३ रन दिये थे।
◆ ‘प्लेयर ऑव़ द मैच’ घोषित श्रीलंका के कप्तान दसुन शनाका ने २२ गेंदों मे ५६ रन बनाये थे।
◆ श्रीलंका ने कुल २०६ रन बनाये थे।
◆ भारत के आरम्भिक बल्लेबाज़ों से लेकर चौथे बल्लेबाज़ तक असरकारक प्रदर्शन करने मे नाकाम रहे। यही कारण था कि भारत के पाँच विकेट मात्र ५७ रनो पर गिर चुके थे।
◆ अक्षर पटेल ने २० गेंदों मे अर्द्धशतक (६५ रन) पूरा किया था।
◆ सूर्यकुमार यादव ने ३३ गेंदों मे अर्द्धशतक (५१रन) पूरा किया था।
◆ सूर्यकुमार यादव और अक्षर पटेल के बीच छठे विकेट के लिए सर्वाधिक (४० गेंदों मे ९१ रन) रनो की भागीदारी हुई थी।
◆ गेंदबाज़ शिवम मावी ने १५ गेंदों मे २६ रन बनाकर विफल सिद्ध हुए आरम्भिक भारतीय बल्लेबाज़ों को आईना दिखा दिया है।
◆ श्रीलंका के तेज़ गेंदबाज़ों ने शानदार बल्लेबाज़ी की थी।
◆ अन्तत:, श्रीलंका ने भारत को १६ रनो से पराजित कर, तीन मैचों की शृंखला मे १-१ से बराबरी करते हुए, शृंखला को जीवन्त कर दिया है।
◆ ७ जनवरी को राजकोट मे खेले जानेवाले तीसरे और अन्तिम मैच का परिणाम बतायेगा― कौन शृंखला-विजेता होगा।
◆ श्रीलंका का कुल स्कोर था― २० ओवरों मे ६ विकेटों पर २०६ रन।
◆ भारत का स्कोर था― २० ओवरों मे ८ विकेटों पर १९० रन।

(सर्वाधिकार सुरक्षित― आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; ५ जनवरी, २०२३ ईसवी।)