थाना अलापुर, बदायूँ के रमनगला में आपराधिक प्रवृत्ति के एक युवक का शव बरामद

मानव बम की जगह आया कोरोना वायरस लोडेड बम, इससे रहिए सावधान

अवनीश मिश्रा, लखनऊ-

आज हम जिस गंभीर महामारी से जूझ रहे है उसकी जड़ें भले ही चीन से जुड़ी है लेकिन इसको फैलाने के लिए चीन का सबसे ज्यादा सहयोग मुस्लिम समाज का एक तबका बहुत ही जोर-शोर से कर रहा है । ऐसे लोगों की हरकतों को मानसिक रोग तो कहा ही जा सकता है किन्तु साथ ही इसके पीछे चीन और पाकिस्तान की साज़िश भी है ।

इस बात के सबूत भले ही मेरे पास ना हो लेकिन आजकल के हालातों और कई मौलवियों के बयानों को देखते हुए मैं इस बात को दावे के साथ कह सकता हूं कि ये हमारे देश ही नहीं अपितु पूरे विश्व में फ़ैल कर एक प्रकार के मानव बम की तरह विनाश को आतुर हैं । ये जगह-जगह जाकर मानवों को रोगी बनाकर मारने का प्रयास कर रहे हैं । मानव बम या वायरस लोडेड दोनों ही रूप में इनको अपने मरने से ज्यादा फ़िक्र लोगों को अधिक संख्या में मारने की है । क्यूंकि इन लोगों को ये समझ आ चुका है कि गोली-बारुद की लड़ाई इनकी औकात से बाहर है।

जहाँ दुनिया कोरोना वायरस के खौफ से घरों से निकलना छोड़ चुकी है वहीं कुछ खुद को खुदा समझने वाले लोग सरकार की बातों को कान में ढक्कन लगा कर अनसुना कर रहे हैं । तब्लीगी जमात के मुखिया ने यह तक कह डाला कि कुछ डॉक्टर्स की बातो में आकर क्या आप नमाजें छोड़ देंगे ? लोगों से मिलना छोड़ देंगे ! आपको बचाने के लिए खुदा के फरिश्ते आएंगे । कुछ मौलवियों ने ये तक कह डाला कि ये सरकार की साज़िश है, मुसलमानों को अलग करने की साज़िश है। ऐसे में समाज के समक्ष एक बड़ी मुश्किल आ गयी है और इससे कैसे निपटना है यह हम सबको ही सोचना है ?

url and counting visits