कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

श्रीलंका को मिले भारत के 20 अत्याधुनिक रेल यात्री कोच

भारत द्वारा श्रीलंका को भेजे गए 20 अत्याधुनिक रेल यात्री कोच कोलंबो पहुंच गए हैं। श्रीलंका को ये कोच दोनों देशों के बीच हुए 8.2 करोड़ अमेरिकी डॉलर से अधिक के समझौते के तहत मिले हैं। रेल बुनियादी ढांचे के विकास में श्रीलंका की मदद के लिए भारत ने यह समझौता किया है।

भारत ने ये कोच दोनों देशों के बीच हुए 8.2 करोड़ अमेरिकी डॉलर से अधिक के समझौते के तहत दिए हैंl

यह समझौता भारत की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकनॉमिक सर्विस (राइट्स) लिमिटेड और श्रीलंका सरकार के परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्रालय के बीच हुआ है।

इस सम्बंध में श्रीलंका स्थित भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर जानकारी दी है। अपने ट्वीट में दूतावास ने कहा आज कोलंबो बंदरगाह पर 20 अत्याधुनिक रेल यात्री डिब्बे पहुंच गए। इनके आगमन के साथ परिवहन क्षेत्र में भारत-श्रीलंका सहयोग की गति जारी हैl एक अन्य ट्वीट में दूतावास ने कहा, “जल्द ही और कोच पहुंचेंगे।

इस खेप के साथ श्रीलंका को कुल 160 कोच में 60 कोच की आपूर्ति की जा चुकी है और 20 डिब्बे भारत से भेजे जाने के लिए तैयार हैं।

बता दें कि जून 2017 में, एग्जिम बैंक ऑफ इंडिया और श्रीलंका सरकार ने रेलवे रोलिंग स्टॉक की आपूर्ति के साथ-साथ रेल पटरियों के आधुनिकीकरण के लिए 318 मिलियन लाइन ऑफ क्रेडिट (एलओसी) समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इसके तहत अन्य परियोजनाओं में महो से ओमानथाई (128 किमी) तक रेलवे लाइन का उन्नयन, महो-अनुराधापुरा सिग्नलिंग परियोजना और पोलगहवेला से कुरुनेगला तक रेलवे लाइन की दोहरी ट्रैकिंग शामिल है।

इस बारे में भारतीय मिशन ने एक बयान जारी कर कहा कि श्रीलंका में रेलवे के बुनियादी ढांचे के विकास पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इस संबंध में, रेलवे लाइनों का पुनर्निर्माण (268 किमी), सिग्नल और दूरसंचार प्रणाली की स्थापना (330 किमी), तटीय रेलवे लाइन का उन्नयन (118 किमी) पहले ही पूरा किया जा चुका है। इसके अलावा अन्य परियोजनाएं विभिन्न चरणों में चल रहीं हैं।

(रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी)