युवाओं और समाजसेवियों द्वारा मनोयोग से मनाई गई स्वामी विवेकानंद जयंती

कछौना के गीता देवी इंटर कॉलेज में कार्यक्रम का हुआ सफल आयोजन

रिपोर्ट – एस.बी.सिंह सेंगर


              आज 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जयंती (राष्ट्रीय युवा दिवस) के उपलक्ष्य में कछौना नगर के गीता देवी इंटर कॉलेज (जनता इंटर कॉलेज) के स्वर्ण जयंती सभागार में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एवं सामाजिक संगठन ‘जय-हिंद जय-भारत मंच’ग्राम अधिकार मोर्चा एवं डिप्लोमा इंजीनियर्स स्टूडेंट वेलफेयर एसोसिएशन, उत्तर प्रदेश (रजि0) के संयुक्त तत्वाधान में विवेकानंद जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कछौना खंड विकास अधिकारी पी.एन. यादव ने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि आपके विचारों एवं कर्म में सच्चाई होनी चाहिए। स्वामी विवेकानंद के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने आगे कहा कि हमें अपने जीवन में कर्म, ज्ञान, भक्ति का संयुक्त समावेश करना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि मानव सेवा ही सर्वोच्च धर्म है इसे हम सभी को सदैव पालन करना चाहिए। वही ग्राम अधिकार मोर्चा के संयोजक व डिप्लोमा इंजीनियर स्टूडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश चंद्र गौतम ने कार्यक्रम में उपस्थित महानुभावों को संबोधित करते हुए कहा कहा कि हमें आपस में कोई भेदभाव नहीं करना चाहिए। जीवन में सदैव एक दूसरे के काम आते रहना चाहिए तभी यह हमारा मानव जीवन सही मायनों में सार्थक होगा एवं विवेकानंद जी की जयंती मनाने का उद्देश्य सही रूप में सफल होगा। स्वामी जी ने असाधारण होने के बाद भी सदैव साधारण लोगों की तरह जीवन यापन किया। उनके इसी भाव ने पूरी दुनिया को आपस में जोड़ दिया।
इस अवसर पर नगर के संगीता सरस्वती शिशु मंदिर के प्रधानाचार्य राम शंकर शुक्ला ने बताया कि स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता (कलकत्ता) में हुआ था। इनके पिता जी का नाम विश्वनाथ दत्त था जोकि पश्चिम बंगाल उच्च न्यायालय के अटॉर्नी जनरल थे। माताजी श्रीमती भुवनेश्वरी देवी गृहणी थी। स्वामी जी के बचपन का नाम नरेंद्र था। वह बचपन से ही काफी मेधावी प्रवृत्ति के थे। उन्होंने शारीरिक बल, मानसिक बल एवं आध्यात्मिक बल से जीवन को बेहतर तरीके से जीने का पूरी दुनिया को मंत्र दिया है।
कार्यक्रम में उपस्थित पत्रकार व जय हिंद जय भारत मंच के कर्मठ कार्यकर्ता राघवेन्द्र त्रिपाठी ‘राघव’ ने एक प्रसंग के माध्यम से बताया कि स्वामी जी के घर पर आगंतुकों का आना जाना रहता था जिनके हुक्के की व्यवस्था अलग अलग की जाती थी। एक दिन उन्होंने सभी हुक्कों को ग्रहण किया और स्वयं के भीतर हुए परिवर्तन से जानना चाहा कि अलग-अलग हुक्कों से पीने में क्या परिवर्तन आता है तो उन्होंने अंत में यह निष्कर्ष निकाला कि सभी मनुष्य समान हैं और जातियां निरर्थक। उन्होंने कहा सबसे बड़ा धर्म रोटी है एवं सभी इंसानो में ईश्वर का वास है। महर्षि विवेकानन्द ज्ञानस्थली के संस्थापक अध्यक्ष आदित्य त्रिपाठी ‘यादवेन्द्र’ ने शिकागो में स्वामी जी के भाषण के दौरान एक सूत्र को उद्बोधित करते हुए बताया कि किस तरह एक युवा सन्यासी ने सारे विश्व को आकर्षित कर लिया था । आदित्य ने बताया कि उन्होंने सारे धर्मों का मूल एक साबित करते हुए कहा रुचीनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम्। नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव॥
अर्थात जैसे विभिन्न नदियाँ भिन्न भिन्न स्रोतों से निकलकर समुद्र में मिल जाती हैं उसी प्रकार हे प्रभो! भिन्न भिन्न रुचि के अनुसार विभिन्न टेढ़े-मेढ़े अथवा सीधे रास्ते से जानेवाले लोग अन्त में तुझमें ही आकर मिल जाते हैं।
इस तरह स्वामी जी ने अपने तर्कों और अकाट्य तथ्यों से हिन्दू धर्म को देश से बाहर वैश्विक स्तर पर स्थापित कर दिया ।

गीता देवी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य नरेंद्र बहादुर यादव ने कहा कि हमें अपने चरित्र को अच्छा रखना चाहिए। मुख्य वक्ता जिला प्रचारक आरएसएस रजनीश ने विवेकानंद जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए सभी युवा साथियों से अपील की कि विवेकानंद जी के आचरण को हमें अपने जीवन में उतारना चाहिए। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला सह संयोजक सत्यम मिश्र ने कार्यक्रम का सफल संचालन किया। विद्यार्थी परिषद द्वारा किए गए सामाजिक कार्यों पर प्रकाश डालते हुए श्री मिश्र ने बताया कि विद्यार्थी परिषद विद्यार्थियों के साथ सदैव कदमताल मिलाते हुए खड़ा रहेगा।
ग्रामीण जन समस्याओं व सामाजिक कुरीतियों, भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद कर रहे नगर के जय हिंद जय भारत मंच के संरक्षक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि हमें सदैव ऐसा आचरण अपनाना चाहिए जो समाज में एक अच्छा उदाहरण प्रस्तुत कर सके। जय हिंद जय भारत मंच के संयोजक पी.डी.गुप्ता ने संगठन के सभी कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु आभार व्यक्त किया। “जय-हिंद जय-भारत मंच” (संगठन) के सह-संयोजक एवं पत्रकार-सामाजिक कार्यकर्ता एस.बी.सिंह सेंगर ने बताया कि जय हिंद जय भारत मंच संगठन ग्रामीण क्षेत्रों में व्याप्त जनसमस्याओं व ग्रामीण क्षेत्रों से जुड़ी लाभकारी योजनाओं को जनमानस तक पहुंचाने आदि से संबंधित बिंदुओं पर कार्य कर रहा है। संगठन के माध्यम से सदैव ग्रामीणों से जुड़ी जन समस्याओं को शासन स्तर से अवगत कराने एवं उन्हें लाभकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने हेतु सदैव प्रयास किया जाता रहेगा। क्षेत्र में अगर किसी के पास जनहित से जुड़ी कोई समस्या या सुझाव/सूचना आदि है तो वह संगठन को इस संदर्भ में अवगत करा सकता है। जय हिंद जय भारत मंच के माध्यम से इस संदर्भ में पूर्ण मदद की जाएगी। इस अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद टीम से शिवम त्रिपाठी,अजय शुक्ल मोहित प्रजापति,अमर गुप्ता व डिप्लोमा इंजीनियर्स स्टूडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों एवं जय हिंद जय भारत मंच के सम्मानित कार्यकर्ताओं में रामेश्वर सिंह,क्षेत्र पंचायत सदस्य मदनलाल, शिवदयाल, मंडल महामंत्री भाजपा नवीन पटेल,अनूप दीक्षित, भाजपा मंडल अध्यक्ष कछौना ब्रह्म कुमार सिंह, राम जी, योगेंद्र राठोर,सरोज कुमार गौतम, संत राजिन्दर सिंह पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य विमल कुमार, राष्ट्रीय प्रस्तावना के पत्रकार श्याम कुमार तिवारी सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

 प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने सम्पूर्ण विश्व में भारतीय संस्कृति की सुगन्ध बिखेरने वाले युवा सन्यासी, प्रकाण्ड विद्वान “युग प्रवर्तक” स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के शुभ-अवसर पर उन्हें कोटि-कोटि नमन करते हुए देश के समस्त युवाओं को “राष्ट्रीय युवा दिवस” की हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Solve : *
32 ⁄ 4 =


url and counting visits