दर्पण

August 3, 2023 0

मीलों दूर सफ़र करनाजहां खुद के अलावा कोई नहीं मिलनाराहों में कांटों की चुभन सेलोगों को हम भी कांटे नज़र आएंगेकभी पूछा चाह क्या है ?खुद का बोलदर्द को बे-दर्द बताएंगेछोड़ी कोई गली या किनाराजहां […]

इति सिद्धम्– साहित्य समाज को दर्पण थमाता हुआ

October 7, 2019 0

प्रसंगवश———- डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय- बचपन (८-१०वर्ष) में देखता था कि आये-दिन कोई व्यक्ति द्वार पर याचक की मुद्रा में आ खड़ा होता था। उस व्यक्ति के कन्धे पर ‘पगहा’, गाय-बछिया को बाँधनेवाली डोर लटकी रहती […]