मत भूल!

August 16, 2023 0

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ऐ नादिरशाह!तेरी ताक़त तू नहीं।तेरे चारों ओर मँडरातेवे गिद्ध हैं,जो तुझे अपने पंखों की आड़ दे,तुझे दसों दिशाओं सेतुझ पर रक्षाकवच छाये हुए हैं,तभी तू सीना तानकर,अपने सिद्ध वाचाल होने […]