रेलगाड़ी की पहली यात्रा : चरन्ति वसुधां कृत्स्नां वावदूका बहुश्रुताः

December 10, 2022 0

संस्कृत की एक सूक्ति है- ‘चरन्ति वसुधां कृत्स्नां वावदूका बहुश्रुताः।’ यानी बुद्धिमान और वाक कुशल लोग सारी पृथ्वी घूमते हैं। भारतवर्ष पृथ्वी के सबसे सुंदर देशों में से एक है और इस खूबसूरत देश को […]