हिन्दी-पत्रकारिता का भविष्य समुज्ज्वल है : डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

May 31, 2018 0

“मैं नहीं स्वीकार करता कि पत्रकारिता के क्षेत्र में विकार-ही-विकार है, वहाँ परिष्कार भी है। अब पत्रकारिता को नये रूप-रंग में ढालकर लोकोपयोगी बनाना होगा, ताकि जनगणमन अपने पूर्वग्रह से ऊपर उठकर पत्रकारिता की पहचान […]