सरकारें को संवैधानिक दायित्व के निर्वहन मे पीछे क्यों

January 13, 2023 0

आखिर वर्तमान सरकारों को संवैधानिक दायित्व के रूप में चार काम (जनता के चार जनाधिकार – प्रतिव्यक्ति न्यायोचित रूप से पूर्ण शिक्षा-प्रशिक्षण/प्रतिपरिवार एक रोजगार के न्यायोचित अवसर व संसाधन/प्रति गाँव समानुपातिक सार्वजनिक सेवा-सुविधा व प्रत्येक […]

हिन्दू, हिन्दुस्तान, भारत व उसकी भारतीयता एवं राष्ट्रवाद को सैद्धांतिक रूप से परिभाषित करता यह आर्टिकल अवश्य पढ़िए…

September 13, 2021 0

यदि आपको हिंदू हिंदुस्तान हिन्दूधर्म से वास्तव में इतना अधिक प्रेम है तो प्रत्येक हिंदुस्तानी के लिए आप 25 वर्षीय निःशुल्क, अनिवार्य, अबाध्य विद्यार्थीजीवन का ब्रह्मचर्य आश्रम और उसके बाद कृषिभूमि, वाणिज्यिकपूंजी, राजकीयवेतन, नेतृत्वभत्ता में […]