कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

धर्म की आड़ में लोगों से करता है तांत्रिक ठगी दोबारा शुरू हुई तांत्रिक की दुकान

December 20, 2020 0

कौशाम्बी : पिपरी कोतवाली के सामने एक तांत्रिक धर्म की आड़ लेकर लोगों को ठगी करने का काम कर रहा है। अभी हाल में पिपरी थाना क्षेत्र के चायल कस्बे में एक तांत्रिक बाबा ने […]

धूमधाम व श्रद्धा से मनाया गया करवाचौथ पर्व

November 4, 2020 0

मंझनपुर, कौशाम्बी : कौशाम्बी में करवा चौथ त्योहार धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर सुहागिनों ने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखा और पति की सुख समृद्धि की कामना की। इस दौरान […]

इस समाज की नीवँ धर्म है

January 8, 2020 0

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’ हिंसक पशु कब समझा है, कोमल मन के भाव मधुर । बिना दण्ड कब सुधरे हैं, वामी, कामी और दुष्ट असुर । इस समाज की नीवँ धर्म है, यह हर प्राणी […]

स्वच्छता किसी भी जाति, धर्म, राजनीति से परे है :- पुलकित खरे

October 2, 2018 0

                 हरदोई- गांधी जी 150 जयंती व पूर्व प्रधानमंत्री जननायक लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्म दिवस महोत्सव जनपद के सभी विद्यालयों , संस्थाओं एवं ग्रामीण क्षेत्रों में […]

महिलाएं, बच्‍चे और पीडित किसी धर्म, किसी जाति के नहीं होते वो देश के होते हैं

April 14, 2018 0

पार्टी प्रवक्‍ता मीनाक्षी लेखी ने कहा कि भाजपा ने कठुआ और उन्‍नाव दुष्‍कर्म की खुलकर निंदा की है। श्री लेखी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कठुआ और उन्‍नाव दुष्‍कर्म की घटनाओं के अभियुक्‍तों को […]

धर्म की धज्जियाँ उड़ाती मध्यप्रदेश-सरकार!..?

April 4, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, इलाहाबाद; सम्पूर्ण देश में जिस प्रकार से भारतीय जनता पार्टी तथाकथित धर्म का आश्रय लेकर देश की मूल राजनीति को ध्वस्त करते हुए, नयी स्थापना करने की ओर बढ़ रही है, वह […]

धर्म की पुन: स्थापना के लिये भगवान का श्री राम के रुप में हुआ था अवतार

March 25, 2018 0

आदित्य त्रिपाठी (उप सम्पादक indianvoice24)- राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे। सहस्रनाम तत्  तुल्यं राम नाम वरानने ॥ रामनवमी का पर्व आज देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में परंपरागत धार्मिक श्रद्धा और उल्‍लास के साथ मनाया […]

मिशन न समझ कर मानवता, इन्सानियत एवं धर्म समझ कर बच्चों के प्रति सोचें : श्री खरे  

March 15, 2018 0

                     पोषण मिशन के तहत जिलास्तरीय अधिकारियों द्वारा गोद लिए गये कुपोषित बच्चों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कलेक्ट्रेट सभागार में करते हुए जिलाधिकारी पुलकित खरे […]

धर्म वह नहीं है जो लकीर का फकीर हो

March 4, 2018 0

दिवाकर दत्त त्रिपाठी-  धर्म वह है जिसमें सोचने की जगह हो, विचारों की जगह हो, समय – समय पर उसके सिद्धांतो में लचीलापन लाया जाये और उसकी अच्छाइयों बुराइयों पर स्वस्थ, तार्किक, वैज्ञानिक वाद – […]

आपके लिए सबसे ऊपर आपका धर्म कैसे

March 4, 2018 0

मणि प्रकाश तिवारी-  हिन्दू विवाह कानून, छुआ -छूत खत्म करना , रामजी का तंबू में रहना , सती प्रथा का बंद होना , महिला के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से सम्बंधित कानून , तलाक लेने की […]

राजनीति और अलगाववाद के लिए धर्म का दुरुपयोग करने वालों को पनपने नहीं देना चाहिए : श्री मोदी

February 24, 2018 0

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के साथ शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि राजनीतिक उद्देश्यों और अलगाववाद को बढ़ावा देने के लिए धर्म का […]

बाबा रामपाल के अनुयायी हिन्दू धर्म के खिलाफ आपत्तिजनक पत्रिकाएं बांटते हुए गिरफ्तार

January 1, 2018 0

अलीगढ़ में बाबा रामपाल के 22 अनुयायी हिन्दू धर्म के खिलाफ प्रचार पुस्तिका बांटते हुए देहली गेट के जलालपुर से गिरफ्तार किए गए हैं । मालूम हो कि रामपाल के अनुयायी अंध श्रद्धा-भक्ति नाम की […]

धर्म और दर्शन

November 17, 2017 0

राघवेन्द्र कुमार ”राघव”- प्राचीन धर्म ग्रन्थ कहते है ” जो धारण करने योग्य हो ” वह धर्म है | लेकिन आज के परिप्रेक्ष्य में धर्म आडम्बर से ज्यादा कुछ नहीं | हम किसी भी धर्म की […]

परम्परागत तरीके व हर्षोल्लास से मनाई गयी देवत्थान एकादशी

October 31, 2017 0

          जिले भर में सोमवार को देवत्थान एकादशी परम्परागत तरीके से मनाया गया। इस मौके पर महिलाओं के द्वारा अपने-अपने घरों में तुलसी चबतुरे को आकर्षक तरीके सजाया और ईख का मंडप […]

माँ गंगा

October 28, 2017 0

जगन्नाथ शुक्ल, इलाहाबाद ऋतु काव्य जहाँ रिसता रहता , यह वह पावन संगम घाटी माँ। नमन तुम्हे हे! माँ गंगे, अविरल जिसकी परिपाटी माँ।।१।। हम कैसी तेरी संतान हैं माँ, कलुषित कर दी है छाती माँ। कैसे […]

शासन और प्रशासन की आँखों में खटकता हिन्दुत्व

October 11, 2017 0

कोमल गुप्त की फेसबुक वॉल से- हर देश के कुछ प्रमुख पर्व होते हैं जो उसकी पहचान होते हैं। दीपावली भारत का सबसे प्रमुख पर्व है। अब आप सौ बच्चों को दीपावली पर पोस्टर बनाने […]

मन का भाव : धर्म का लक्ष्य अब अलक्षित क्यों?

October 9, 2017 0

 डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय- कैसे-कैसे बाबा अब दिखने लगे हैं, कामिनी ले बाँहों में दिखने लगे हैं। भगवा वस्त्र बेईमानी की चादर में, आश्रम में बहुरुपिये दिखने लगे हैं। कौन है साधु और शैतान यहाँ, चरित्र […]

भारतीय पुरुष एक बुद्धिमती महिला का सानिध्य तो चाहते हैं, पर पत्नी के रूप में उससे निभा नहीं पाते

October 7, 2017 0

कोमल गुप्ता जी की फेसबुक वॉल से- भारतीय पुरुष एक बुद्धिमती महिला का सानिंध्य तो चाहते हैं, पर पत्नी के रूप में उससे निभा नहीं पाते। जिन इलाकों में मुस्लिमों का प्रभाव रहा है या […]

दो लोगों के शब्द आज भी प्रासंगिक है, पहले सावरकर और दूसरा 1971 में दिया गया अटल जी का भाषण

October 7, 2017 0

कमलेश चंद्र तिवारी जी की फेसबुक वॉल से- दो लोगों के शब्द या सोच आज भी प्रासंगिक है पहले सावरकर और दूसरा अटल जी का भाषण जो उन्होंने 1971 के युद्ध के बाद संसद में दिया […]

धर्म वही है जो प्राणी मात्र को सुख दे: संतोष भाई 

September 12, 2017 0

          बावन में तृतीय दिवस कथा ब्यास सँतोष भाई ने कथामृत का रस बरसाते हुए कहा कि धर्म वही है जो प्राणी मात्र को सुख देकर प्रसन्नता का अनुभव करे।संसार में […]

1 2