मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

May 8, 2022 0

निर्देश– एक शब्द मे प्रयुक्त अक्षरों की सहायता से सार्थक शब्द बनायें (‘बनाएँ’ अशुद्ध है।) और उसका अर्थ भी बतायें—जैसे— आराधना = पूजा-अर्चना-उपासना।आराधना मे चार अक्षर हैं। इस शब्द के अन्तर्गत इन्हीं चार अक्षरों की […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

May 3, 2022 0

एक आभासी मित्र के लेखन पर मैने एक टिप्पणी की थी :—“ध्यातव्य– व्यक्ति का निर्माण कोई नहीं कर सकता; निर्माण केवल ‘कृत्रिम वस्तु’ का होता है। आप कर सकते हैं– व्यक्तित्व का विकास/संवर्द्धन।”इस पर उनकी […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

April 25, 2022 0

यहाँ उन शब्दों के प्रयोग पर सम्यक् विचार किया गया है, जो शुद्ध हैं और उपयुक्त भी। आप उच्चारण और लेखन-स्तर पर उन शुद्ध शब्दों को भक्तिभाव के साथ ग्रहण करते हुए, समाज का भाषिक […]

‘यू ट्यूब’ पर शीघ्र ही ‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ नामक सारस्वत आयोजन होगा शुरू

April 16, 2022 0

विशेष सूचना•••••••••••••••• ‘दैनिक जागरण-प्रतिष्ठान’ ने समाचारपत्र के काग़ज़ मे कटौती करते हुए, ‘सप्तरंग’ पृष्ठ (‘झंकार का पृष्ठ दो) मे कटौती कर दी है, इसलिए आप अब प्रतिरविवार प्रकाशित की जा रही ‘भाषा की पाठशाला’ से […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

March 11, 2022 0

इनमे से कौन-से शब्द शुद्ध हैं?(क) आनुशासनिक (ख) अनुशासनिक (ग) अनुषांगिक (घ) आनुषंगिक (ङ) अन्तर्रात्मा (च) अन्तरात्मा (छ) चामत्कारिक (ज) चमत्कारिक (झ) समाचारिक (ञ) सामाचारिक (ट) प्रामाणिक (ठ) प्रमाणिक (ड) सख्योचित (ढ) सख्युचित (ण) आनुषांगिक […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

February 19, 2022 0

कल (२० फ़रवरी) रविवार रहेगा। आप ‘दैनिक जागरण-परिवार’ की रविवारीय/ रविवासरीय प्रस्तुति ‘भाषा की पाठशाला’ में कल ऐसे अनेक शब्दों का अध्ययन करेंगे, जिनके अर्थ को न समझते हुए, अधिकतर जन मौखिक और लिखित भाषाओं […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

February 18, 2022 0

आप प्रत्येक वर्ण के पञ्चमाक्षर/पंचमाक्षर का प्रयोग सम्बन्धित प्रत्येक शब्द में ‘लेखनी’ के माध्यम से तो कर सकते हैं; किन्तु ‘टंकण-माध्यम’ से वैसा सम्भव नहीं हो पा रहा है। ऐसा इसलिए कि सम्बन्धित ‘सॉफ़्टवेअर’ की […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 27, 2021 0

कल के शब्द :– रेल और रेलवे। कल (२८ नवम्बर) रविवार रहेगा और आपको देश के शीर्षस्थ दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘दैनिक जागरण’ और मध्यप्रदेश के पाठकप्रिय दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘नई दुनिया’ और ‘नव दुनिया’ के कल के […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

September 26, 2021 0

निम्नांकित शब्दों को सविस्तार समझने के लिए अपने स्वस्थ तर्क-चिन्तन को बोध का आधार बनायें। शुद्ध और उपयुक्त शब्द :– समाधि, उठावनी, पंचतत्त्व में विलीन, पार्थिव शरीर तथा पन्ना-पृष्ठ/पेज। ★ समाधि– इस शब्द को लेकर […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

July 17, 2021 0

विचारणीय शब्द :– ● पूर्वाग्रह● पूर्वग्रह● प्रणाम ● पूर्वाग्रह– यह दीर्घ स्वर सन्धि का उदाहरण है और षष्ठी तत्पुरुष समास का भी। पूर्वाग्रह में प्रामाणिक-अप्रामाणिक और अविवादित-विवादित विषय आते हैं। ऐसे में, कौन कब अप्रामाणिक-विवादास्पद […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 18, 2021 0

कल (१९ जून) ‘शनिवार’ रहेगा और आप ‘दैनिक जागरण’, ‘नई दुनिया’ तथा ‘नव दुनिया’ के समस्त संस्करणों में कल एक साथ प्रकाशित साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ के अन्तर्गत ‘जन्मजयन्ती’, ‘जयन्ती’, ‘जन्मदिन’, ‘जन्मतिथि’ तथा कई […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 17, 2021 0

••••••••••••••••••••••••••••••••••◆ निम्नलिखित अशुद्ध वाक्य को कारण-सहित विशद (स्पष्ट) रूप में शुद्ध करें।■ अशुद्ध वाक्य है– प्राधानाचार्या महोदय! आपके दर्शनों को पाकर मैं अभिभूति हूँ।● अब इस वाक्य की अशुद्धियों को विस्तारपूर्वक समझते हुए, इसके शुद्ध […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 11, 2021 0

कल (१२ जून) ‘शनिवार’ रहेगा और आप ‘दैनिक जागरण’, ‘नई दुनिया’ तथा ‘नव दुनिया’ के समस्त संस्करणों में कल एक साथ प्रकाशित साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ के अन्तर्गत ‘भोग’-‘उपभोग’, ‘उपयोग’, ‘प्रयोग’, ‘वियोग’ तथा ‘संयोग’ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 10, 2021 0

अशुद्ध और अनुपयुक्त शब्द-प्रयोग :– सगुण-दुर्गुण, कपूत-सपूत। यहाँ शुद्ध और उपयुक्त शब्द ‘सुगुण’ है। ‘सुगुण’ और ‘दुर्गुण’ ही एकसाथ प्रयोग किये जानेवाले विपरीतार्थक शब्द हैं। सगुण का अर्थ है, ‘गुणसहित’ और सुगुण का अर्थ है, […]

‘अमर उजाला उड़ान’ के ‘मार्गदर्शन’ में कल (९ जून)

June 8, 2021 0

कल (९ जून) बुद्धवार रहेगा और आप कल की ‘अमर उजाला उड़ान’ पत्रिका में हमारे साप्ताहिक स्तम्भ ‘मार्गदर्शन’ के अन्तर्गत ‘प्रेरणाप्रद विचार’– ‘ज़िन्दगी की किताब पढ़ना सीखें’ का अनुशीलन करेंगे। सच, मनुष्य वेद-वेदान्त तथा अन्य […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 4, 2021 0

कल (५ जून) शनिवार रहेगा और आप ‘दैनिक जागरण’, ‘नई दुनिया’ तथा ‘नव दुनिया’ के समस्त संस्करणों में कल एक साथ प्रकाशित साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ के अन्तर्गत ‘कि’, ‘की’, दी, ‘किया’, ‘लिया’ आदिक […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

June 2, 2021 0

जो भी लोग :– साहित्यकार, लेखक, कवि, पत्रकार, अध्यापक-अध्यापिकाएँ, प्रकाशक, प्रूफ़-संशोधक आदिक ‘गया’ से ‘गये’, ‘दिया’ से ‘दिये’, ‘लिया’ से ‘लिए’, ‘बताया’, ‘दिलाया’, ‘हिलाया’, ‘रुलाया’ का क्रमश: बताए’, ‘दिलाए’, ‘हिलाए’, ‘रुलाये’; ‘हुए’ का ‘हुये’, ‘हूँ’ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

May 28, 2021 0

कल (२९ मई) शनिवार रहेगा और आप ‘दैनिक जागरण’, ‘नई दुनिया’ तथा ‘नव दुनिया’ के समस्त संस्करणों में कल एक साथ प्रकाशित साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ के अन्तर्गत ‘बर-वर’, बरात-बारात, बराती-बाराती’ तथा अन्य शब्दों […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

May 23, 2021 0

‘ललकार’ के साथ सुनें-पढ़ें खरी-खरी हमारे देश के ख़ूब पढ़े-लिखे-कढ़े लोग से एक रोग के उपचार के लिए चिकित्सककक्ष में पहुँचने से पूर्व ही ‘पाँच सौ रुपये’ परामर्शशुल्क के रूप में रखवा लिये जाते हैं […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

May 20, 2021 0

••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••शुद्ध शब्दप्रयोग (उदाहरण-सहित)कहाँ ‘से’ के स्थान पर ‘में’ का प्रयोग होता है; समझें :–★ मेरी समझ ‘में’ ऐसा ही है।★ तीव्र गति ‘में’ गाड़ी मत चलाओ।★ देर ‘में’ मत आना।★ गाड़ी देर ‘में’ आयेगी।★ क्रम […]

1 2 3 5