सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

वर-वधुओं के साक्षात्कार केसाथ उनके अभिलेखों का हुआ परीक्षण

वरदान चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा आगामी 30 अप्रैल दिन रविवार को घंटा घर परिसर में आयोजित होने वाले सामूहिक विवाह समारोह के लिए वर-वधुओं के साक्षात्कार और उनके अभिलेखों के परीक्षण का कार्यक्रम गांधी हॉल में संपन्न हुआ। अभिलेखीय परीक्षण और साक्षात्कार के पश्चात 46 वर-वधुओं के अभिलेख और उनकी आयु आदि के साक्ष्य पूर्ण पाए जाने के उपरांत उनके अभिभावकों के शपथ पत्र बनवा कर विवाह हेतु टोकन जारी कर दिए गए। साक्षात्कार कार्यक्रम को लेकर गांधी भवन परिसर में वर-वधुओं व उनके परिवारीजनों का हुजूम लगा रहा। जानकारी देते हुए वरिष्ठ ट्रस्टी अरुणेश वाजपेई ने बताया कि आज साक्षात्कार हेतु 56 वर-वधुओं के अभिभावक उपस्थित हुए और उनके अभिलेखों के अनुसार आयु के साक्ष्य प्रमाण पत्र देखे गए। वधुओं की आयु 18 वर्ष और वर की आयु 21 वर्ष पूर्ण होने पर 46 वर-वधुओं को विवाह हेतु टोकन जारी कर दिए गए व उनके अभिभावकों से आयु के संबंध में शपथ पत्र भी नोटेरी अनिल मिश्रा के सौजन्य से गांधी भवन परिसर में ही पूर्ण कराए गए। शपथपत्र पर तथा पूरे सामूहिक विवाह में होने वाले किसी भी खर्च पर कोई भी पैसा दंपत्तियों अथवा उनके अभिभावकों को खर्च नहीं करना है और समस्त व्यय वरदान चैरिटेबल ट्रस्ट ही करेगा।

वैसे वरदान ट्रस्ट का लक्ष्य 51 दंपत्तियों का विवाह कराने का था परंतु आज केवल 46 दंपत्तियों को ही विवाह हेतु टोकन जारी किए गए। शेष छह दंपत्तियों को आयु के संबंध में आवश्यक साक्ष्य और शपथ पत्र के लिए उनके अभिभावकों की अनुपस्थिति के कारण 4 दिन का समय प्रदान किया गया है। हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार विवाह गायत्री विधि से अतुल कपूर और उनकी टीम द्वारा संपन्न कराए जाएंगे तथा मुस्लिम रीति के निकाह मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार संपन्न होंगे। जिन 46 दंपत्तियों को विवाह हेतु टोकन जारी किए गए हैं उनमें से 45 विवाह हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार तथा तीन निकाह मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार संपन्न कराए जाएंगे। साक्षात्कार के दौरान ट्रस्टी फखरुल इस्लाम “फक्कन”, ट्रस्टी करुणा शंकर द्विवेदी, ट्रस्टी आलोक श्रीवास्तव के अलावा ट्रस्ट के सहयोगियो में उमाकांत मिश्रा, संजय अग्रवाल, सरिता अग्रवाल, रिंकी गुप्ता, गिरीश चंद्र मिश्रा, श्रवण दीक्षित, पंकज गुप्ता, जे पी श्रीवास्तव, हिमांशु अग्रवाल और प्रेम शुक्ला मौजूद रहे।

(अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस सामाजिक सरोकार डेस्क)