सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

क्रांतिकारी वीरांगना सुशीला दीदी की आज जयन्ती

क्रांतिकारियों की प्यारी दीदी को उनकी जयन्ती पर श्रद्धा सुमन

Sharwan Kumar

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के क्रांतिकारियों की दीदी क्रांतिकारी वीरांगना सुशीला दीदी की आज जयन्ती है। आज ही की तिथि 5 मार्च 1905 को उनका जन्म पंजाब के गुजरात जिले के दन्तोचुहड़ गाँव(वर्तमान पाकिस्तान)में हुआ था । भगतसिंह और बटुकेश्वर दत्त को असेंबली में बम फेंकने के लिए सुशीला दीदी एवं दुर्गा भाभी ने अपने रक्त से तिलक लगाकर अंतिम विदाई दी थी ।सन् 1926 में देहरादून में हिन्दी साहित्य सम्मेलन के दौरान भगवती चरण बोहरा से प्रभावित होकर वे ‘हिन्दुस्तान शोसलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन ‘ में शामिल हो गईं। आइए भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारियों की प्यारी दीदी को उनकी जयन्ती पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं ।