संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

अमेरिकी सरकार के विशेष प्रतिनिधि ने डोभाल और विदेश सचिव से की मुलाकात

अमेरिकी सरकार के विशेष प्रतिनिधि थॉमस वेस्ट भारत के दौरे पर हैं। इस दौरान मंगलवार को उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला से मुलाकात कर अफगानिस्तान के मौजूदा हालात पर चर्चा की। अफगानिस्तान पर अमेरिकी सरकार का विशेष प्रतिनिधि बनाए जाने के बाद उनकी यह पहली भारत यात्रा है।

अफगानिस्तान पर चर्चा : वार्ता में भारत के अगुवाई में हुई 08 देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक का भी मामला उठा

विदेश मंत्रालय के अनुसार वार्ता के दौरान अफगानिस्तान के भीतर और वहां से बाहर लोगों की आवाजाही मानवीय सहायता के वैश्विक प्रयासों के समन्वय के रास्तों और क्षेत्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों सहित अन्य मुद्दे सामने आए।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट कर कहा विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि थामस वेस्ट से मुलाकात की और हाल के घटनाक्रम और अफगानिस्तान में आम हित के मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।

वहीं अमेरिका के विशेष दूत ने एक ट्वीट में कहा कि अमेरिका और भारत ‘स्थिर और शांतिपूर्ण अफगानिस्तान की दिशा में काम करेंगे। वेस्ट ने एक ट्वीट में कहा हम एक स्थिर और शांतिपूर्ण अफगानिस्तान में अपने प्रचुर साझा हितों को संबोधित करने के लिए अपने करीबी साथी के साथ मिलकर काम करेंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष प्रतिनिधि वेस्ट के साथ हुई वार्ताओं के दौरान बीते दिनों भारत के अगुवाई में हुई 08 देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक का भी मामला उठा। सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने उन्हें इस बैठक में हुए फैसलों और सुरक्षा आकलनों के बारे में जानकारी दी।

गौरतलब है कि भारत ने 10 नवंबर को अफगानिस्तान पर क्षेत्रीय सम्मेलन का आयोजन किया था जिसमें रूस, ईरान, कजाखस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, उज्बेकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने हिस्सा लिया था।अफगान संकट पर भारत की मेजबानी में हुई सुरक्षा वार्ता में आठ देशों के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने अफगानिस्तान की संप्रभुता, एकता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने तथा इसके अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने की जरूरत पर जोर दिया था।

(रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी)