सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

रसोइया वंदना शुक्ला हत्याकाण्ड का खुलासा

पिहानी कोतवाली क्षेत्र के शाहपुर शुक्ला गांव के प्राथमिक विद्यालय की रसोइया वंदना शुक्ला (42) पत्नी स्व0 मदन शुक्ला 25 अप्रैल की देर शाम घर से निकली थी, लेकिन लौटी नहीं। उसका भाई सीतापुर जनपद की महोली कोतवाली अन्तर्गत चडरा गांव निवासी अरुण तिवारी शिकायत लेकर कोतवाली पहुंचा, तो पुलिस ने संजीदगी से लेने की जगह लापता वंदना के चरित्र पर ही उंगली उठा दी थी। लेकिन, पुलिस ने जो खुलासा किया है, वह नई उम्र के लड़कों की कामांध होने कथा है।

28 अप्रैल को वंदना शुक्ला की क्षत-विक्षत लाश उसके ही खेत में गन्ने की पात में दबी मिली थी। इसके बाद गुस्साए परिजनों ने अभद्रता करने वाले सिपाहियों और डीएम के मौके पर बुलाए जाने की मांग पूरी होने तक लाश नहीं उठाने देने की ज़िद पर अड़ गए थे। बाद में एएसपी (पश्चिमी) लक्ष्मी निवास मिश्रा ने अभद्रता करने वाले दोनों सिपाहियों दिनेश शुक्ला और आदेश त्रिवेदी को लाइन हाजिर कर परिजनों को संतुष्ट किया था।

ख़ैर, बाद में पिहानी पुलिस ने मृतका के भाई अरुण की तहरीर पर वंदना से ज़मीन का मुक़दमा लड़ रहे संजय पुत्र सर्वेश सहित 06 के विरुद्ध अपहरण के बाद हत्या की प्राथमिकी दर्ज हुई थी। हालांकि, एएसपी मिश्रा ने सर्किल अफ़सर (हरियावां) श्यामकान्त त्रिपाठी, पिहानी पुलिस और क्राइम ब्रान्च को सनसनीखेज हत्याकाण्ड के खुलासे का जिम्मा दिया था। अब, पुलिस के खुलासे से मामले का रुख़ ही पलट गया है।

आज, वंदना शुक्ला हत्याकाण्ड से पुलिस लाइन्स सभागार में मीडिया की मौजूदगी में पर्दा उठया गया। एसपी विपिन कुमार मिश्रा ने बताया कि वंदना का खेत बटाई पर लेने वाले शमीम, सुचित सक्सेना और गौतम सक्सेना वंदना पर बुरी नीयत रखते थे। 25 अप्रैल को शमीम ने वंदना को फ़ोन कॉल कर सिंचाई के लिए पम्प का पाइप खरीदने को रुपए देने के लिए अपने घर के पास बुलाया। वंदना के पहुंचने पर तीनों ने उसके मुंह पर कपड़ा लपेट दिया और उसके ही खेत में ले जाकर मुंह काला किया। कलंक-कथा खुलने के डर से तीनों ने वंदना की साड़ी से उसका गला घोंट हत्या कर दी। उसके कान से सोने के टॉप्स, गले से सोने का लॉकेट और चांदी की पायल उतार लाश गन्ने की पात में छुपा दी। वंदना के जेवर तीनों ने रामआसरे के गन्ने के खेत में गाड़ दिए।

सर्विलांस सेल की सहायता से पुलिस ने तीनों आरोपियों को कल धर लिया। पूछताछ में तीनों ने अपना गुनाह क़ुबूल कर लिया। इसके बाद पिहानी पुलिस ने भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376D/404/411 के तहत अभियोग पंजीकृत कर लिया। हत्याकाण्ड की खुलासा करने वाली टीम में पिहानी कोतवाल पवन त्रिवेदी, सब इन्स्पेक्टर राजेश सिंह व संतोष कुमार, कांस्टेबल संतोष कुमार व कृष्णपाल सिंह और सर्विलांस सेल के सब इन्स्पेक्टर संजय कुमार व उनकी टीम शामिल रही।

-अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस क्राइम डेस्क