सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

शब्द :— आरोपी-आरोपित

आरोपी (वादी)– जो व्यक्ति किसी पर आरोप मढ़ता हो; जैसे– उसने मेरे घर चोरी की थी।

आरोपित (प्रतिवादी)– जिस व्यक्ति पर आरोप मढ़ा जाये; जैसे– यही वह चोर है, जिसने चोरी की थी।
शुद्ध प्रयोग– दो ‘आरोपित’ पकड़े गये।
अशुद्ध प्रयोग– दो ‘आरोपी’ पकड़े गये।

विडम्बना– हमारा सुशिक्षित-वर्ग :– न्यायाधीश, अधिवक्ता, पुलिस-अधिकारी, मण्डलायुक्त, ज़िलाधिकारी आदिक ‘आरोपी’ और ‘आरोपित’ का अर्थ नहीं जानता। देश मे सात समाचारपत्र ही ऐसे हैं, जो दोनो शब्दों का इधर कुछ वर्षों से शुद्ध प्रयोग करते आ रहे हैं। समाचार-चैनलों मे तो एक-से-बढ़कर-एक जाहिल भरे हुए हैं।

(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; १६ जून, २०२२ ईसवी।)