कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

बारिश से जलमग्न हुई सड़क पर धान की रोपाई, जनता ने अनोखे अंदाज में नाराज़गी जतायी

हसमत अली, बघौली

बघौली/हरदोई : “तुम्हारी फाइलों मे गांव का मौसम गुलाबी है, मगर ये आंकड़े झूठे ये दावा किताबी है।”

मशहूर शायर अदब गोंडवी की उक्त पक्तियां सरकार गड्ढा मुक्त दावों की सही तस्वीर प्रस्तुत कर रही हैं। कहते है सड़कें गांवों के विकास की जीवन रेखा हैं। लेकिन बघौली कस्बे से गुजरने वाली सड़क की हालत चार सालों से इस कदर बदतर है कि इस पर पैदल चलना तक मुश्किल है। प्रदेश सरकार के गड्ढा मुक्त सड़क का सपना दिखाने के दावे को झुठलाने के लिए इस सड़क की वर्तमान दयनीय स्थिति काफी है। सड़क में इतने गड्ढे हो चुके हैं जिस पर हल्की सी बरसात होने पर जल भराव हो जाता है और सड़क तलैया में तब्दील हो जाती है। जिससे बघौली कस्बे से जुड़े ग्रामीण व व्यापारियों का काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

सीएम पोर्टल से लेकर जनप्रतिनिधियों तक कस्बे के व्यापारियों व ग्रामीणों ने गुहार लगाई लेकिन, सड़क के दिन नहीं बहुरे। इससे नाराज बघौली कस्बे के व्यापारी व सड़क से जुड़े आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों ने सोमवार को बारिश से जलमग्न हुई सड़क पर धान की रोपाई कर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन का नेतृत्व बघौली के प्रतिष्ठित व्यापारी अमित गुप्ता व किसान महेंद्र वर्मा के द्वारा किया गया। जिसमे सैकड़ो की संख्या में क्षेत्रीय ग्रामीण व व्यापारी मौजूद रहे।इन्होने कहा कि गड्ढों में तब्दील सड़क नहीं बननी तो धान की रोपाई ही हो। और गड्ढा मुक्त सड़क का सपना दिखाने वाली सरकार को एक बार फिर कुम्भकर्णीय नींद से जगाने की कोशिश जाये। कई कस्बा व्यापारियों व ग्रामीणों के हाथों में सड़क नहीं तो वोट नहीं की तख्तियां दिखायी दीं, वहीं बघौली के प्रतिष्ठित व्यापारी अमित गुप्ता ने बघौली थाना प्रभारी को एक ज्ञापन भी दिया।