लुप्त हो रही लोक संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन हेतु कार्यशाला का आयोजन

लुप्त हो रही लोक संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन हेतु गायन व नृत्य की कार्यशाला का आयोजन लोक संस्कृति की धरोहर मुनाल द्वारा दिनांक 9 अप्रैल से 30 अप्रैल तक मुनाल बुध बसंती सभागार वजीर हसन रोड तथा पेपर मिल कॉलोनी में 3:00 में किया जा रहा है। कार्यशाला प्रशिक्षण के उपरांत दिनांक 1 मई से 5 मई तक आयोजित होने वाले पांच दिवसीय महोत्सव के तहत मंचीय प्रस्तुति की जाएगी।

लोक गायन की कार्यशाला यशभारती से सम्मानित वरिष्ठ लोक गायिका सुश्री ऋचा जोशी के संयोजन में किया जा रहा है। कार्यशाला में सभी आयु वर्ग के प्रतिभागी भाग ले रहे हैं और 8 वर्ष से 65 वर्ष तक के प्रतिभागी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के अवधी, भोजपुरी, ब्रज, बुंदेली तथा उत्तराखंड का गढ़वाली, कुमाऊंनी लोकगीत व नृत्य का प्रशिक्षण लोक नृत्य की कार्यशाला लोक विशेषज्ञ उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी सम्मानित मुनालश्री विक्रम बिष्ट द्वारा दिया जा रहा है। सुश्री देवेश्वरी पवार, पूर्णिमा बाजपेई, मधु माथुर, आशा मौर्य, रागिनी अग्रवाल, प्रसिद्धि जोशी, गीता सिंह, प्रदीप पटेल, आशू नौटियाल, मानसी बिष्ट आदि प्रतिभागी भाग ले रहे हैं।

कार्यशाला में प्रोफेसर कमला श्रीवास्तव, श्रीमती विमल पंत आदि भी अपना सहयोग देंगे। कार्यशाला का उद्घाटन रंगकर्मी/फिल्मकार/प्रोड्यूसर/निर्देशक सुरेश पटेल द्वारा किया गया, साथ में आर्ट डायरेक्टर दिलीप राणा भी उपस्थित रहे।