सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

मॉरीशस में सम्मानित हुई लखनऊ की लेखिका डॉ० वन्दना श्रीवास्तव

भाषा सहोदरी हिन्दी न्यास द्वारा भारत से दूर विदेश मॉरीशस में महात्मा गांधी संस्थान में आयोजित नौवें अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी अधिवेशन में लखनऊ की लेखिका डॉ वन्दना श्रीवास्तव वान्या चयनित हुई एवं साहित्य रत्न सम्मान से सम्मानित हुई। जिले का नाम रोशन करने के लिए संपादक मंडल डॉ वन्दना श्रीवास्तव जी को बहुत बहुत बधाई देता है।

साक्षात्कार में वन्दना जी कहती हैं कि वह बचपन से ही लेखन कार्य करती रही है। परिवार में पिता जी एवं चाचा जी के कवि होने के कारण साहित्य का, मॉं वीणापाणि का आशीर्वाद उन्हें भी प्राप्त है। वन्दना जी अनेक साहित्यिक संस्थानों में पदाधिकारी रही हैं।साथ ही उन्होंने अनेक साहित्यिक कार्यक्रमों का प्रतिनिधित्व भी किया है। वन्दना जी महादेवी वर्मा सम्मान के साथ साथ अनेक सम्मानों से सम्मानित भी हैं।

आकाशवाणी व दूरदर्शन में आपकी रचनाओं का प्रसारण होता रहा है। इस कार्यक्रम में मॉरीशस के माननीय राष्ट्रपति श्री पृथ्वीराज सिंह रूपन जी भी सम्मिलित थे। उन्होंने भारत से आए सभी साहित्यकारों का अभिवादन किया तथा आधी से अधिक आबादी रखने वाले हिन्दुओं की भाषा हिन्दी के प्रचार प्रसार पर बल दिया तथा सभी को बधाई दी।भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी ने भी कार्यक्रम को तथा सभी साहित्यकारों को अपने संदेश में बधाई दी।इस कार्यक्रम में भारत के कोने कोने से साहित्यकार तथा विश्व विद्यालय के कुलपति,शिक्षक आदि सम्मिलित थे। मॉरीशस, जो कि छोटे भारत के रूप में जाना जाता है, भारतीय साहित्यकारों का दिल खोलकर स्वागत अभिनन्दन हुआ। सम्पूर्ण भारत के लिए बहुत ही गर्व का विषय है यह।