सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

मंडलायुक्त ने ग्राम पंचायत का किया निरीक्षण

कछौना, हरदोई। मंडला आयुक्त रोशन जैकब ने बुधवार को ग्राम सभा पुरवा का स्थलीय निरीक्षण किया। ग्राम सभा के ग्रामीणों ने छुट्टा गौवंशों की ज्वलंत समस्या को रखा।

मंडलायुक्त रोशन जैकब ने पंचायत भवन का निरीक्षण किया। भवन की कायाकल्प को देखकर प्रशंसा जाहिर की। वर्तमान समय में पंचायत घर में जनसेवा के कार्य आय, जाति, निवास, पेंशन, खसरा, खतौनी आदि न्यूनतम शुल्क में ग्रामीणों को हो जाते हैं। जिसके लिए उन्हें ब्लॉक मुख्यालय, जिला मुख्यालय व तहसील मुख्यालय नहीं दौड़ना पड़े। इस सुविधा से ग्रामीणों को काफी राहत मिल रही है। पंचायत घर में सचिव कक्ष का निरीक्षण किया, संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया, सप्ताह में एक दिन राजस्व कर्मी, ग्राम सचिव व अन्य विभागीय अधिकारी बैठना सुनिश्चित करें। जिससे ग्रामीणों को छोटे-छोटे कार्यो के लिए ब्लॉक मुख्यालय व जिला मुख्यालय व तहसील मुख्यालय के चक्कर नहीं लगाना। पंचायत घर में सामुदायिक पुस्तकालय भी संचालित है, जहां पर गांव के नौनिहाल युवा पुस्तकों का अध्ययन कर ज्ञानार्जन कर सकें। पुस्तकालय का लाभ गांव के लोग उठा रहे हैं। इस पुस्तकालय में कंपटीशन से संबंधित किताबें मौजूद हैं।

ग्रामीणों ने मंडलायुक्त को बताया जूनियर हाई स्कूल पुरवा में एक वर्ष से कोई अध्यापक की तैनाती नहीं है। जिससे शिक्षण कार्य प्रभावित हैं। यहां पर छात्रों की संख्या 95 नामांकन है। दूसरे विद्यालय के शिक्षकों को संबद्ध किया गया है। शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहे हैं। महिला समूह की कार्य पद्धति को देखा, ग्रामसभा का कोई भी महिला समूह सक्रिय नहीं है, बल्कि बाहर की महिला समूह द्वारा प्रदर्शनी लगाई गई। जिस पर मंडलायुक्त ने कहा ग्रामसभा की महिलाओं को समूह में भागीदारी बढ़ाएं। जिससे उनके जीवन में परिवर्तन हो सके। ग्राम सभा में बनास डेरी का निरीक्षण किया। दुग्ध उत्पादन की जानकारी ली।

ग्राम सभा में पंचायत द्वारा व एचसीएल फाउंडेशन के सीएसआर द्वारा करोड़ों रुपए की धनराशि खर्च करने के बावजूद लोगों के जीवन में परिवर्तन नहीं हो पा रहा है। आज भी ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं छुट्टा जानवर, स्वास्थ्य सेवाओं, अच्छी शिक्षा, पोषण, खेलकूद मैदान आदि से जूझ रहे हैं। ग्राम प्रधान संघ छविनाथ मौर्य ने ग्रामीणों की सुविधा के लिए मंडलायुक्त से बरात घर की सुविधा की मांग की। जिसपर उन्होंने बताया शासन को अवगत कराते हैं, आप अपने जनप्रतिनिधियों से मिलकर विधायक व सांसद की निधि से बरात घर बनवा सकते हैं।

निरीक्षण के दौरान अपर मंडला आयुक्त रणविजय यादव, उप जिलाधिकारी देवेंद्र पाल सिंह, मुख्य विकास अधिकारी आकांक्षा राणा, क्षेत्राधिकारी संडीला अमित मिश्रा, प्रभारी निरीक्षक ज्ञानेश दुबे, एडीओ पंचायत संतोष कुमार, ग्राम प्रधान छविनाथ मौर्य, एचसीएल फाउंडेशन के हेड योगेश कुमार आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट – पी०डी० गुप्ता