मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

ईएमटी व आशा बहू की सजगता से शिशु ने 102 एम्बुलेंस में लिया जन्म, सुरक्षित

जच्चा-बच्चा दोनो स्वस्थ, परिजन में हर्ष। स्वास्थ्यकर्मियों की चहुँओर प्रशंसा

कछौना(हरदोई): सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना के अंतर्गत जीवनदायिनी 102 में स्टॉफ कर्मियों की सजगता से वाहन के अंदर गर्भवती महिला ने शिशु को जन्म दिया। जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। परिजन स्वास्थ्यकर्मियों के सहयोग की सराहना कर रहे हैं।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना में जीवनदायिनी 102 वाहन संख्या UP32 CG 1034 के ईएमटी के पास डिलीवरी हेतु मरीज को ग्राम बहदिन से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर प्रसव हेतु लाने के लिए कॉल आई। चालक बिना देरी किये गर्भवती महिला को गांव से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ला रहे थे। परिजनों के साथ आशा बहू भी थीं। रास्ते में महिला को काफी दर्द हुआ। प्रसव पीड़ा बढ़ जाने के कारण ईएमटी व आशा बहू ने अपने डॉक्टरों से परामर्श कर प्राथमिक उपचार किया। स्टॉफ कर्मियों के प्राथमिक उपचार से 102 में ही नवजात शिशु ने जन्म दिया। नवजात शिशु के जन्म के बाद जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हालत में थे। स्टॉफ कर्मियों सहित परिजनों व मां के चेहरे पर खुशी दौड़ गई। 102 में नवजात शिशु की किलकारी गूंज उठी। स्टॉफ कर्मियों ने तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जच्चा-बच्चा दोनों को सकुशल भर्ती कराया।

स्टॉफकर्मी ईएमटी अवनीश, पायलट सत्येंद्र कुमार, आशा बहू सुशीला देवी के प्राथमिक उपचार की परिजन सराहना कर रहे हैं। स्टॉफ कर्मियों के अपने कर्त्तव्य के प्रति ईमानदारी के कारण ग्रामीण क्षेत्र में संस्थागत प्रसव कराने में इजाफा हुआ है।

मामले को लेकर अधीक्षक किसलय बाजपेयी ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रसव को लेकर अब दाईयों से प्रसव पर काफी हद तक रोक लगी है। उसमें जच्चा-बच्चा दोनों के जीवन को खतरा रहता है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर प्रसव कराने में अब काफी सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।

ख़बर- पी.डी. गुप्ता