संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

सावधान : हनुमान मंदिर व आरएसएस कार्यालयों को मिली बम से उड़ाने की धमकी

हिंदू औरतों के जिस्म में इस्लाम का अजाब भर दिया जाएगा

लखनऊ, IV24 Bureau – कुछ दिनों पहले यूपी एटीएस के सर्च ऑपरेशन में पकड़े गए आतंकियों को छुड़ाने के लिए आतंकी समर्थकों ने रजिस्टर्ड डाक के माध्यम से पत्र भेजकर लखनऊ स्थित हर बड़े मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी दे डाली।

पत्र में स्पष्ट तौर पर धमकी देते हुए आतंकी ने कहा कि हमारे सब्र का इम्तेहान ना लिया जाए। आने वाली 14 अगस्त तक गिरिफ़्तार किए गए आतंकियों को छोड़ दे वरना हमें हथियार उठाना पड़ेगा। धमकी में यह भी कहा गया कि जो लोग भी इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ मुहिम चला रहे हैं उन सभी के गले रेत दिए जाएंगे। पत्र में पुलिस महकमे को भी धमकी दी गई कि जिन पुलिसवालों ने मुलाजिम बेगुनाह मुसलमानों को जेल भेजा है उसका भी हिसाब किया जाएगा।

पत्र में शहर के बड़े मंदिरों के साथ आरएसएस कार्यालय, आरएसएस पदाधिकारियों के साथ अन्य हिंदू संगठनों को भी निशाना बनाने की धमकी दी गई।

लखनऊ के ही डाकघर से भेजा गया था पत्र

आतंकियों के द्वारा भेजे गए पत्र पर त्रिवेणीनगर डाकघर का टिकट लगा था। अलीगंज में नया हनुमान मंदिर में गुरुवार के डाक द्वारा चिट्ठी पहुँची थी। मंदिर प्रशासन के द्वारा जब चिट्ठी को खोल कर पढ़ा गया तो सभी के होश उड़ गए। मंदिर प्रशासन ने बताया की चिट्ठी में लिखा हुआ था कि पकड़े गए आतंकियों को 14 अगस्त तक न छोड़ा गया तो शहर के बड़े मंदिर और आरएसएस के कार्यालयों को निशाना बनाया जाएगा। पत्र को प्रबंधक नया हनुमान मंदिर के नाम भेजा गया था। वहीं भेजने वाले के नाम की जगह खदरा के किसी जोगिंदर सिंह का नाम लिखा हुआ था। पत्र पर लगे डाक टिकट से इस बात की पुष्टि हुई के पत्र त्रिवेणीनगर डाकघर से भेजा गया है।

मंदिर प्रशासन की तरफ से शुक्रवार को ज्वाइंट कमिश्नर अपराध नीलाब्जा चौधरी को पूरे मामले की जानकारी दी गई। ज्वाइंट कमिश्नर अपराध ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए क्राइम टीम को जांच के आदेश दिए।

ये लिखा है पत्र में

बनामी व अखलाक आप हजरात को अदा करता हूं कि हमारे जिन मुजाहिदों (आतंकियों) को आप की हुकूमत की इनतिहाई ईन्तेहाई फिरकापरस्त सोच की वजह से गिरिफ़्तार किया गया है उन्हें फौरन रिहा कर दिया जाए। हमारी कौम के सब्र का इम्तेहान न लिया जाए। अगर ऐसा न किया गया तो उन्हें मजबूरन हथियार उठाने पड़ेंगे, उस सूरत में लखनऊ शहर के बड़े मंदिर और आरएसएस के दफ्तर हमारे निशाने पर पहले से ही हैं। पूरे शहर में 10 हिंदू हजरात पर हमारी खास तवज्जो भी है, जो कि इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ मुहिम चला रहे हैं। हम इन सब के गले रेतकर उन्हें जल्दी ही दोजख की आग में झोंक देंगे और आपकी काफिर पुलिस के जो मुलाजिम बेगुनाहों मुसलमानों को फंसा कर जेल भेज रहे हैं उनका हिसाब भी किया जाएगा।

हिंदू औरतों के जिस्म में इस्लाम का अजाब भर दिया जाएगा। इतना कहर बरपा देंगे कि आपकी हुकूमत हिल जाएगी। यही नहीं कोई यह न सोचे कि उन्हें किसी का खौफ है। हम सिर्फ अल्लाह से ही डरते हैं और इसीलिए वह अपना नाम भी खुले तौर पर लिख रहे हैं। हमें ढूंढने की कोशिश मत करना। आप को हिंदुस्तान यौमे आजादी यानी कि 15 अगस्त से 1 दिन पहले तक का वक्त दिया जा रहा है। आगे के अंजाम के जिम्मेदार आप खुद होंगे। एक दिन आएगा जब इस मुल्क में निजाम-ए-मुस्तफा कायम करेंगे। सबका इंसाफ होगा और जुल्म का इंतकाम लिया जाएगा।

पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए क्राइम टीम पूरे मामले की जांच कर रही है। उप डाकघर के अफसरों से भी जानकारी जुटाई जा रही है की इस पत्र को डाकघर से किसके द्वारा भेजा गया। जानकारी के मुताबिक क्राइम टीम उस पते की भी जांच कर रही है जिसका जिक्र पत्र में किया गया था। आईजी अपराध का दावा है के जल्द ही पत्र भेजने वाले का खुलासा किया जाएगा।