मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

कोई भी गरीब व्‍यक्ति अपने बच्‍चों को विरासत में गरीबी नहीं देना चाहता – प्रधानमंत्री

साभार-आकाशवाणी


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि उनकी सरकार गरीबों के हितों के लिए विकास की गति को तेज करने के लिए फैसले ले रही है। वे वाराणसी में आज दोपहर 25 परियोजनाओं के उदघाटन और आधारशिला रखने के बाद बोल रहे थे। श्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार का सपना गरीबों को सशक्‍त करना है। उन्‍होंने कहा कि कोई भी गरीब व्‍यक्ति अपने बच्‍चों को विरासत में गरीबी नहीं देना चाहता। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने समाज के सभी वर्गों को सशक्‍त बनाने के लिए कदम उठाये हैं। हर समस्‍या का समाधान आखिर विकास में ही है। हमारी कोशिश यह है कि विकास की वो बातें साकार हों ताकि गरीब से गरीब की जिंदगी में बदलाव लाने का अवसर तैयार हो। हमारे गरीबों का सशक्तिकरण हो।
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों ने विकास की अनदेखी की और चुनाव जीतने के लिए जनता के धन को लूटा है। श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार न केवल परियोजनाओं को शुरू करती है बल्कि उन्‍हें पूरा भी करती है। हस्‍तशिल्‍प के लिए एक व्‍यापार सुविधा केंद्र नवनिर्मित दीनदयाल हस्‍तकला संकुल की चर्चा करते हुए उन्‍होंने कहा कि तीन सौ करोड़ रूपये की लागत वाला यह केंद्र हमारे बुनकरों और दस्‍तकारों के बेहतर भविष्‍य के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का एक नमूना है। तीन सौ करोड की लागत से बनी हुई ये इमारत ये सिर्फ इमारत नहीं है। ये भारत के सामर्थ्‍य का परिचय कराने वाली यह हमारे शिल्‍पकार बुनकरों के सामर्थ की एक ऐसी कथा को संजोये हुए हैं जो भविष्‍य के नए दरवाजे खोलने की ताकत रखते हैं। श्री मोदी ने कहा कि इस केंद्र का संग्रहालय वाराणसी में पर्यटन को बढ़ावा देगा और यह इस क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों का केंद्र भी बनेगा।
ये जो म्‍यूजियम बना है वो काशी के टूरिजम को भी बढावा देगा। जो काशी में यात्रा के रूप में आते हैं इसे देखेंगे। काशी के सामर्थ्‍य को जानेगें। मुझे विश्‍वास है कि काशी के टूरिजम को भी बढावा मिलेगा। काशी के इस कला कौशल्‍य को भी ताकत मिलेगी और एक नए आर्थिक गतिविधि का एक केन्‍द्र बनेगा।
इस अवसर पर केन्‍द्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी और राज्‍यमंत्री अजय टमटा भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री ने वीडियो लिंक के जरिए महामना एक्‍सप्रेस को भी रवाना किया। यह रेलगाड़ी वाराणसी और गुजरात के सूरत और वड़ोदरा के बीच चलेगी। इसी परिसर में प्रधानमंत्री ने उत्‍कर्ष बैंक की बैंकिंग सेवाओं का उदघाटन किया और बैंक के मुख्‍यालय की आधारशिला रखी। यह बैंक माइक्रो फाइनेंस की विशिष्‍टता वाला है। प्रधानमंत्री ने वीडियो लिंक से मरीजों और शवों के लिए जल एम्‍बूलेंस सेवा को भी राष्‍ट्र को समर्पित किया। हमारे संवाददाता ने बताया है कि अपने संसदीय क्षेत्र के वे दो दिवसीय दौरे पर हैं।
वाराणसी भ्रमण के पहले दिन स्‍थानिय लोगों के साथ अपने को जोडते हुए श्री मोदी ने कहा वाराणसी का सांसद बने रहने का उनका निर्णय काशी के लोगों की सेवा के लिए ही था। सरकार की काम-काज की शैली का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस परियोजना की आधारशिला रखी जाती है उसका उद्घाटन करना भी सरकार सुनिश्‍चित करती है। समारोह के दौरान बुनकरों और हस्‍तकर्घा कारीगरों का सम्‍मान करते हुए श्री मोदी ने उन्‍हें प्रोत्‍साहित किया और कहा कि देश के हस्‍तकर्घा कारीगरों में पूरी दुनिया को अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता है। समारोह में श्रीमती स्‍मृति ईरानी ने कहा कि मुद्रा बैंक योजना, बुनकरों और दस्‍तकारों के लिए बहुत लाभकारी साबित हुई है और इस बैंक के माध्‍यम से लाभार्थियों को 170 करोड रूपये दिए जा चुके हैं। वस्‍त्र मंत्रालय के अंतर्गत बुनकर भाईयों के लिए विशेष मुद्रा योजना पहुंचे, हम ये प्रयास कर चुके हैं। देशभर में 33 हजार से ज्‍यादा बुनकर भाईयों-बहनों को मुद्रा योजना से जोडकर एक सौ 70 करोड से ज्‍यादा की राशि उपलब्‍ध कराई है।