ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

यह है ‘जैविक युद्ध’, हाय! लड़ रहा मनुष्य अभागा

अभी समय है, अभी नहीं कुछ भी बिगड़ा है ।
क्रूर-काल कोविड-19, चुप-छुप पास खड़ा है ।
सम्भलो स्वयं, सम्भालो अपनों को भी प्यारे,
‘जीता वही सिकन्दर’ जिसने विजयी युद्ध लड़ा है।।

उसे पूछता कौन, हार कर पीठ दिखा जो भागा ।
जीत सका है कौन, कि जिसने रण में साहस त्यागा।
युद्ध नहीं यह तोपों,बन्दूकों का प्यारे,
यह है ‘जैविक युद्ध’, हाय! लड़ रहा मनुष्य अभागा।।

स्वार्थ-भाव और त्याज्य उच्छऋंखलता अपनाई।
सावधानियाँ भूल गये, ‘वैक्सीनें’ जब से आईं ।
उत्तुंगी संक्रमणी लहरें, फुफकार दिखातीं नर्तन,
‘प्राण-वायु’ का मूल्य, चुकाने की है बारी आई ।।

उत्तरदायित्व नहीं बनता, बस केवल सरकारों का ।
दायित्व प्रथम कर्तव्यों का,तब होता अधिकारों का ।
अपनाओ आयुर्वेद,योग, देशी-दिनचर्या,
निश्चय ही पालन करें, सभी प्रोटोकालों का ।।

प्राइवेट हॉस्पिटल सभी लूट के बने हुए व्यापारी ।
भारी बिल्डिंग,ऊंची डिग्री, पर हैं मिथ्याचारी ।
लाशों तक का भी इलाज, करते दिखलाई देते ।
किंकर्तव्यविमूढ़ क्या करे, विवश ‘पब्लिक-बेचारी’।।

अपनी रक्षा स्वयं कीजिये, L1,L2 भरे पड़े हैं ।
इतनी O2 की मांग, सिलेन्डर ढेरों रिक्त खड़े हैं।
इतना कम ‘स्टाफ-मेडिकल’ कैसे भीड़ सम्हाले?
शमशानों में लावारिश लाशों के जाम लगे हैं ।।

अभी समय है, अभी नही ज्यादा बिगड़ा है ।
दोषारोपण से बचो, देश पर संकट आन पड़ा है ।
‘कोरोना-वारियर(स)’, जुटे हुए चौबीसो घण्टे,
अपना भी दें सहयोग, देश ‘यह’ तुमसे माँग रहा है।।

                   अवधेश कुमार शुक्ला
                      मूरख- हिरदय
         गुरु तेग बहादुर जयंती, मई दिवस
                    01/05/2021

url and counting visits