संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

जवानों की शहादत को हम व्यर्थ नहीं जाने देंगे : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह

छत्तीसगढ़ के सुकमा के बुरकापाल में कल हुए नक्सली हमले के बाद की स्थिति का जायज़ा लेने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री राज्य के दौरे पर हैं। श्री सिंह ने कहा वाम उग्रवाद के खिलाफ अपनी रणनीति की समीक्षा के लिए केन्‍द्र सरकार अगले महीने की आठ तारीख को एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक करेगी।
रायपुर में राजनाथ सिंह ने शहीदों को श्रद्धांजलि पेश की। इस मौके पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सहित कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। अब राजनाथ सिहं घटना स्थल पर जाकर स्थिति का जायज़ा लेंगे। नक्‍सल प्रभावित क्षेत्रों में अर्धसैनिक बलों और पुलिस बलों को हुए नुकसान के बावजूद वहां सेना तैनात करने की सरकार की कोई योजना नहीं है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि यह आंतरिक सुरक्षा का एक मुद्दा है इसलिए सेना तैनात करने का प्रश्‍न ही नहीं उठता है। यह कानून-व्‍यवस्‍था की समस्‍या है इसलिए अर्धसैनिक बल और पुलिस बल ही माओवादियों से निपटेगें। नक्सलियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल के 25 जवान शहीद हो गए थे। केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि मैं शहीद जवानों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और जवानों की शहादत को हम व्यर्थ नहीं जाने देंगे। नक्सली हमले को कायरता पूर्ण बताते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि नक्सली गरीबों के बड़े दुश्मन हैं। गृहमंत्री ने कहा कि आठ मई को नक्सलियों को लेकर रणनीतिक समीक्षा बैठक होगी और ज़रूरत पड़ी तो बदलाव किये जाएंगे। दरअसल, सुकमा जिले के दोनापाल क्षेत्र में सडक निर्माण कार्य की सुरक्षा के लिए सी आर पी एफ की 74वीं बटालियन के करीब 90 जवान तैनात किए गए थे। तभी करीब तीन सौ माओवादियों ने, जिनमें महिला माओवादी भी शामिल थी, घात लगाकर आधुनिक हथियारों के साथ हमला कर दिया।