मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

वर्थियम के माध्यम से पत्रकारों को मिलेगा उनका असली हक: आलोक जोशी,पूर्व मैनेजिंग एडिटर सीएनबीसी आवाज

  • ब्लॉकचेन तकनीक से खत्म हो जाएगी मध्यस्थ की भूमिका, पत्रकारों के लिए डिजिटल रिवार्ड कमाने की असीमित संभावनाओं का खुला द्वार :वरुण सेठी, ब्लॉकचेन लॉयर सुप्रीम कोर्ट
  • वर्थियम पूरी तरह पारदर्शी न्यूज प्लेटफॉर्म, लिखने के साथ ही लाइक करने वाले भी पाते हैं डिजिटल रिवॉर्ड, ब्लॉकचेन आधारित इंडिया का पहला न्यूज प्लेटफार्म है वर्थियम : आशुतोष सिंह, संस्थापक एवं सीईओ वर्थियम

5 अगस्त 2022, लखनऊ. लखनऊ के गोमती नगर स्थित हिल्टन गार्डन इन लखनऊ में शुक्रवार को देश के पहले DPoS ब्लॉकचेन आधारित समाचार प्लेटफॉर्म ‘वर्थियम’ का औपचारिक उद्घाटन हुआ।

आज ही सिंगापुर के कॉइंस्टोर एक्सचेंज (Coinstore Exchange) पर लिस्ट हुआ वर्थियम.

कार्यक्रम का सञ्चालन अंतरराष्ट्रीय पत्रकार जसविंदर सहगल जी ने किया और कार्यक्रम की शुरुआत दीपदान से हुई, इसके बाद EST Global के चेयरमैन श्री सिन्धु भास्कर जी ने अपने वर्चुअल विडियो सन्देश के माध्यम से ब्लॉकचेन तकनीक की उपयोगिता और पत्रकारिता में इसके उपयोग के बारे में चर्चा की

तत्पश्चात वर्थियम के फाउंडर और सीईओ श्री आशुतोष सिंह ने स्वागत उद्बोधन में सभी का स्वागत करते हुए वर्थियम प्लेटफार्म के बारे में बताया कि वर्थियम ब्लॉकचेन आधारित इंडिया का पहला न्यूज प्लेटफार्म है और किस तरह यह प्लेटफार्म ग्रासरूट जर्नलिज्म की चुनौतियों को हल कर सकेगा।

उन्होंने बताया कि यह प्लेटफार्म पत्रकारों को और अधिक सशक्त करेगा। इस प्लेटफार्म के विस्तार की क्षमता को समझाते हुए कहा कि हमारा लक्ष्य है कि इस प्लेटफार्म के माध्यम से भारत के हर एक गांव तक पहुंचा जा सके।

इस अवसर पर ‘वर्थियम’ से जुड़े विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई। कार्यक्रम में शामिल अतिथियों ने इस विशेष न्यूज प्लेटफोर्म की विशेषताओं और संभावनाओं पर प्रकाश डाला।

इसके बाद पूर्व मैनेजिंग एडिटर सीएनबीसी आवाज श्री आलोक जोशी जी ने एक पैनल डिस्कशन में इस अवसर पर कहा कि प्रिंट पत्रकारिता, पत्रकारों के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा है। उन्होंने अपनी जरूरतों के लिए काफी संघर्ष किया है। डिजिटलाइजेशन के इस दौर में आम पत्रकारों को उनके मुताबिक अब तक लाभ नहीं मिल सका है। यह लाभ अब वर्थियम के माध्यम से डिजिटल रिवार्ड के रूप में पत्रकारों को मिलना संभव हो सकेगा।

अब वेब 3 का समय आया है जब कंटेंट को मोनिटाइज किया जा सकता है।

ब्लॉकचेन लॉयर सुप्रीम कोर्ट, श्री वरुण सेठी ने बताया कि वेब 3 आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन आधारित एक डिसेंट्रलाइज्ड सिस्टम है और ब्लॉकचेन तकनीक के आम जनता के मध्य आने के बाद अनेक चुनौतियों को दूर करने में सहायता मिलेगी। श्री वरुण सेठी ने उदाहरण देते हुए बताया कि पहले कोई गीतकार गीत लिखता था तो पहले उसको एक निश्चित रकम मिलती थी, फिर उसके बाद इस समय you tube तथा अनेक जैसे मध्यस्थ चैनलों के आने के बाद उनको मोनेटाइज कर इसका लाभांश मिलने लगा, लेकिन वह भी अपनी कुल मिल रहे फायदे का अधिकतम दस प्रतिशत ही मिलता है, लेकिन इस ब्लॉकचेन तकनीक के आने के बाद मध्यस्थ की भूमिका नहीं रहेगी, और अपने पूरे कंटेंट का फायदा मिल सकेगा।

उन्होंने आगे बताया कि पारंपरिक पत्रकारिता में संपादक यह तय करते हैं कि कौन सी खबर जानी चाहिए या कौन सी नहीं, लेकिन वेब 3.0 में अब हर यूजर ही संपादक होगा। श्री वरुण सेठी ने कार्यक्रम के दौरान डिजिटल ऐसेस्ट कानून पर प्रकाश डाला। उन्होंने डिजिटल ऐसेस्ट के कानून और उससे जुड़ी तमाम भ्रांतियों को दूर किया और भारत में डिजिटल ऐसेस्ट कानून की क्या स्थिति है, इस पर प्रकाश डाला।

EIY SYS Pvt Limited के सीईओ एवं ब्लॉकचेन एक्सपर्ट श्री ललित बंसल ने चर्चा करते हुए बताया कि पत्रकारिता को वेब 3.0 के आने के बाद और अधिक स्वंतत्रता मिलेगी। श्री ललित बंसल जी ने मीडिया में वेब 3.0 के प्रभाव और इसके फायदे बताए। उन्होंने यह भी बताया कि आखिर वेब 3.0 का मीडिया में भविष्य क्या है। उन्होंने आम यूजर्स को वेब 3.0 से जुड़ी भ्रांतियों पर चिंता न करते हुए उसके प्रभाव का जिक्र किया।

वेब 1.0 वेब 2.0 और वेब 3.0 के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि वेब 1.0 के समय में वेबसाइट पर केवल कंटेंट को पढ़ा जा सकता था फिर उसके बाद समय आया वेब 2.0 जब कंटेंट में पढ़ना लिखना और उसपर प्रतिक्रियाएं भी दी जा सकती थी वेब 3.0 के आने के बाद कंटेंट को मोनेटाइज भी किया जा सकेगा।

सिंगापुर के क्रिप्टो करेंसी के कॉइंस्टोर एक्सचेंज के मार्केटिंग हेड श्री रमेश श्रीकोंडा जी ने बताया कि यह ब्लॉकचेन तकनीक क्रांतिकारी है और आने वाले भविष्य में ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित वर्थियम न्यूज एंड मीडिया प्लेटफार्म स्वतंत्र पत्रकारिता को एक नया आयाम प्रदान करेगा। और आज कॉइंस्टोर एक्सचेंज (CoinStore Exchange) पर वर्थियम की लिस्टिंग होने के बाद इस इस डिजिटल एसेट का लेनदेन संभव हो सकेगा

वर्थियम के संस्थापक और सीईओ आशुतोष सिंह ने कहा कि इस प्लेटफॉर्म पर खबरों को संपादित तो किया जा सकता है लेकिन इसे हटाया नहीं जा सकता। यह ‘मेरी खबर मेरी जिम्मेदारी’ (My News My responsibility) के सिद्धांत पर काम करता है और यह प्लेटफॉर्म पूरी तरह से पारदर्शी है। इस प्लेटफॉर्म पर खबर लिखने वाले को 50 फीसदी इनाम भी मिलता है साथ ही इसे लाइक करने वाले को 50 फीसदी इनाम भी मिलता है।

उन्होंने वॉर्थियम के औपचारिक उद्घाटन की घोषणा की और बताया कि आज प्लेटफॉर्म को सिंगापुर स्थित एक्सचेंज कॉइनस्टोर Coinstore पर सूचीबद्ध किया जा रहा है और उपयोगकर्ता अब वर्थियम की डिजिटल एसेट का लेन-देन कर सकते हैं।