संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

मानवजीवन-विकास का सिद्धान्त न जानने के कारण ही मानवजीवन की इतनी दुर्गति

PQ IQ, EQ और SQ के विकास का अभिप्राय क्या है..?
मानवजीवनविकास के सिद्धांत का संक्षिप्त परिचय प्रदान करें…?
💎
मानवीय इन्द्रियों से मन…
मन से प्राण…
प्राण से आत्मा …
ऐसी चार सीढियां हैं मानवजीवनविकास की..!

मानवीय इन्द्रियों के विकास से कर्म होता है..!
मन के विकास से विचार उत्तपन्न होते हैं..!!
प्राण के विकास से भाव उत्तपन्न होते हैं..!!!
आत्मा के विकास से चेतना उत्तपन्न होती है..!!!

मानवीय इन्द्रियां ही शरीर है।
जो पंचतत्त्वों से बना है।
मानवजीवनविकास का प्रथम चरण यह शरीर का विकास ही है।
शारीरिक विकास हुए बिना मानसिक विकास नहीं होता।
मानसिक विकास हुए बिना भावनात्मक विकास नहीं होता।
भावनात्मक विकास हुए बिना चेतनात्मक विकास नहीं होता।

ये चार प्रकार की क्षमताएं हैं।
जो मानव जीवन के चार आयामी विकास यात्रा से उपलब्ध होती हैं।
बल, वाणी, व्रत, विवेक ही क्रमशः उन क्षमताओं के नाम हैं…!!!

शारीरिक विकास से ‘बल’ प्राप्त होता है…!
मानसिक विकास से ‘वाणी’ प्राप्त होती है..!!
भावनात्मक विकास से ‘व्रत’ प्राप्त होता है..!!!
चेतनात्मक विकास से ‘विवेक’ प्राप्त होता है…!!!!

क्रियाशक्ति ही बल है…!
तर्कशक्ति ही वाणी है…!!
धारणाशक्ति ही व्रत है..!!!
चिदशक्ति ही विवेक है..!!!!

मानवजीवनविकास का सिद्धान्त न जानने के कारण ही मानवजीवन की इतनी तबाही/दुर्गति हुई है..!

मानवजीवन का समग्रविकास ही इस जगत को नर्क से स्वर्ग में रूपांतरित करता है तथा जंगलराज को मंगलराज में बदलता है..!

बल से कृषिकर्म करना संभव होता है..!
वाणी से वाणिज्य कर्म करना संभव होता है..!!
व्रत से राज्यकर्म (सेवाक्षेत्र – चपरासी से लेकर राष्ट्रपति पद तक) करना संभव होता है..!!!
विवेक से नेतृत्वकर्म (नेतृत्वक्षेत्र – पँच, सरपंच से लेकर विधायक, सांसद व प्रधानमंत्री पद तक) करना संभव होता है..!!!!

कृषि, वाणिज्य, राज्य, नेतृत्व ही क्रमशः चार कर्म हैं।
जिनके द्वारा मानवसमाज व्यवस्थित होता है।

आवश्यकता है कि मानवीय समाज में पात्रतानुसार पदनियुक्ति की न्यायशील व्यवस्था अपनाई जाए..!

क्षमतानुसार पात्रता…
पात्रतानुसार पद….
पदानुसार संपदा पर स्वामित्व प्रतिष्ठित हो…!
यही न्यायशील सामाजिक व्यवस्था होगी…!!
जिसमें कभी किसी विप्लव या संघर्ष की कोई संभावना शेष नहीं रह जाती..!!!


राम गुप्ता
स्वतंत्र पत्रकार व
साधारण कार्यकर्ता/प्रचारक
आम आदमी पार्टी, उत्तरप्रदेश