मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

संस्‍कृति किसी भी देश की सभ्‍यता की धड़कन और सामाजिक मूल्‍यों का प्रतीक

भारत की सांस्‍कृतिक विविधता के जरिये विश्‍व बंधुत्‍व के सिद्धांत को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने प्रोत्‍साहित करने पर ज़ोर दिया है । कल नई दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्‍ट्रीय कला केंद्र में श्री नायडू पहले अंतर्राष्‍ट्रीय कला मेले के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे । उपराष्ट्रपति महोदय ने कहा कि संस्‍कृति किसी भी देश की सभ्‍यता की धड़कन और सामाजिक मूल्‍यों का प्रतीक होती है ।