संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

कार्यशाला में बाल संरक्षण पर दिया बल

          बालसंरक्षण को लेकर गुरुवार को पुलिस लाइन सभागार में बाल संरक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला हुई। इसमें शहर के प्रत्येक पुलिस थानों से बाल कल्याण अधिकारियों ने भाग लिया।
        कार्यशाला में एसपी विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि जिन बच्चों की उम्र 18 वर्ष से कम है, गुमशुदा, अनाथ है उन्हें संबल प्रदान करने के लिए हर अधिकारी को अपना कर्तव्य है। आम नागरिक भी ऐसे बच्चों को ढूंढ कर पुलिस को सौंप सकते हैं। साथ ही पुलिस बाल कल्याण समिति के माध्यम उस बच्चे के पुनर्वास में अपना योगदान दे सकता है। और जब तक बच्चों समिति के पास रहता है तो समिति के सदस्यों की भी अपनी भूमिका होती है, लेकिन यदि कोई विधि से संघर्षरत बच्चे है तो उनको केस भी जल्द से जल्द सॉल्व किया जाए। विधि से संघर्षरत बच्चों के लिए किशोर न्याय अधिनियम 2015 में कई कानून है, जिसके तहत बच्चों को प्रत्येक बाल कल्याण पुलिस अधिकारी किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष पेश करेंगे। इस मौके पर बाल कल्याण समिति हरदोई, श्रम,समाज कल्याण, विभिन्न शिक्षण संस्थाओं सहित स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग व चाइल्ड लाइन इकाइयों ने प्रतिभाग किया।